निगम, पुलिस, पर्यावरण, डेवलपमेंट एजेंसी का डाटा जल्द होगा आपके हाथों में

इंदौर। शहर के सरकारी, सामाजिक, पर्यावरण, नगरीय निकाय, भौगोलिक, जल संरचनाओं, यातायात, पुलिसिंग, स्वास्थ्य, सांस्कृतिक, शिक्षा, व्यापार सहित अन्य महत्वपूर्ण विषयों से जुड़ा डेटा इंदौर स्मार्ट एप के जरिये आपके पास भी उपलब्ध रहेगा। आने वाले समय में स्मार्ट सिटी कम्पनी इंदौर द्वारा विकसित की जा रही वेबसाइट और इंदौर स्मार्ट एप पर नागरिक आसानी से जान सकेंगे। साथ ही आवश्यकता पड़ने पर इस डाटा का उपयोग व्यापार, शिक्षा, डेवलमेंट, सहित अन्य क्षेत्रों में कर सकेंगे।

जीआईएस आधारित मानचित्र जानकारी के अनुसार स्मार्ट सिटी कम्पनी इंदौर ने वेबसाइट को पहले ही लांच कर दिया हैं। स्मार्ट सिटी का यह प्रसास है कि सरकार के पास उपलब्ध डेटा बैस का उपयोग शहर के विकास में हो सके। इसके माध्यम से ऐसी योजनाएं तैयार हो जिससे आम नागरिकों का जीवन सहज और बाधा रहित बनाया जा सके। जानकारों के अनुसार  आवास और शहरी कार्य मंत्रालय, भारत सरकार के द्वारा आजादी के 75 वर्ष को अमृत महोत्सव के तहत, 21 जनवरी को ओपन डाटा दिवस घोषित किया गया। इंदौर स्मार्ट सीड इनक्यूबेशन सेंटर इंदौर स्मार्ट सिटी कम्पनी द्वारा बनाई गई वेबसाइट और एप को पहले ही लांच किया जा चुका हैं। इंदौर स्मार्ट एप, इंदौर स्मार्ट सिटी की एक पहल है जो नागरिकों, सरकारी एजेंसियों एवं व्यवसायों के लिए इंदौर के बारे में सूचनाओं के आदान-प्रदान करने के लिए एक एकीकृत जीआईएस आधारित मानचित्र है।

एक ही स्थान पर सूचनाओं के आदान-प्रदान का केंद्र होगा

जानकारी के अनुसार यह शहर के हित में भविष्य की योजनाओं एवं संपत्तियों के प्रबंधन हेतु स्थल चयन, पर्यावरण एवं कानूनी उपबंध, नियोजन के डिजाइन एवं विजुअलाईजेशन के संबंध में एक ही स्थान पर सूचनाओं के आदान-प्रदान का केन्द्र होगा। इंदौर शहर की संपत्तियों जैसे भवन, शहरीय सुविधाए जैसे- स्वास्थ्य, शिक्षा, परिवहन, सांस्कृतिक आदि की जानकारी संपर्क विवरण पारदर्शिता के साथ बहुमूल्य जानकारी इंदौर के स्मार्ट मेप पर प्रदर्शित होगी। इस बेस मैप पर रोड नेटवर्क, जल निकायों, पेड़ो व अन्य सुविधाओं जैसी अन्य जानकारियां भी विस्तृत रूप से उपलब्ध होगी।

देखा जा सकेगा थ्री-डी मॉडल में

इंदौर स्मार्ट मेप, शासकीय विभागों एवं प्राधिकारियों को शहरी विकास की गतिविधियों जैसे अर्बन प्लानिंग एवं डेवलपमेंट, डिजास्टर मेनेजमेंट, इंफ्रास्ट्रक्चर असेट मैनेजमेंट, ट्रैफिक मैनेजमेंट, रूट प्लानिंग, सिटी क्राइम मैनेजमेंट, ट्रैफिक वायलेशन, आईडेंटिफिकेशन आॅफ पॉल्यूशन तथा ट्रैफिक रूट प्लानिंग एवं रिवर फ्रंट डेवलपमेंट आदि के संबंध में नीति निर्धारण, निर्णय लेने में सहायक होगा। अभी एप और वेबसाइट को लगातार अपडेट किया जा रहा है। इसके लिए इंदौर के सभी शासकीय विभागों से जानकारी मंगवाकर डाटा फिडिंग का काम भी किया गया। इसके लिए शहर के आम नागरिकों से भी सुझाव आमंत्रित किए गए ताकि साइट को और अधिक बेहतर एवं उपयोगी बनाई जा सके। ऐप के जरिये राजबाड़ा, गांधी हॉल, लालबाग पैलेस, व्हाईट चर्च, खजराना मंदिर आदि को थ्री-डी मॉडल में देखा जा सकेगा। इंदौर स्मार्ट एप को वेबसाइट पर किसी भी नागरिक द्वारा नि:शुल्क एक्सेस किया जा सकेगा।