////

Shiv Navratri 2021: महाकाल में छाया महाशिवरात्रि का उल्लास, दुर्लभ शास्त्रोक्त परंपराओं का हो रहा है निर्वाह

Shiv Navratri 2021: संध्या आरती में भगवान को मीठे गरम दूध का भोग लगाया जाएगा।

Shiv Navratri 2021: ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में महाशिवरात्रि का उल्लास छाया हुआ है। गुरुवार तड़के भगवान का अभिषेक और भस्मारती के बाद सुबह 5 बजे से दर्शन का सिलसिला शुरू हो गया है। भक्त शुक्रवार सुबह 10 बजे तक भगवान के सतत दर्शन कर सकेंगे। भगवान की एक झलक पाने के लिए मध्यरात्रि 3 बजे से ही कतार लगाना शुरू हो गई थी।

रात 2.30 बजे तक खुले रहेंगे मंदिर के पट

करीब एक लाख श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है। मंदिर की परंपरा अनुसार बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात 2.30 बजे मंदिर के पट खुले। इसके बाद पुजारियों ने अभिषेक और भस्मारती की। सुबह 5 बजे से दर्शन का क्रम शुरू हुआ। दोपहर 12 बजे तहसील की ओर से शासकीय पूजा होगी। शाम 4 बजे पुजारी होल्कर और सिंधिया स्टेट की ओर से पूजा करेंगे। इसके बाद संध्या आरती में भगवान को मीठे गरम दूध का भोग लगाया जाएगा।

रात्रि 11 बजे भगवान महाकाल का महाअभिषेक किया जाएगा। इसमें दूध, दही, खंडसारी, शहद, घी, पांच प्रकार के फलों का रस, गन्ने का रस, गंगाजल, गुलाब जल, भांग आदि सामग्री के साथ केसर मिश्रित दूध से अभिषेक किया जाएगा। पश्चात वैदिक मंत्रों के साथ पूजा अर्चना होगी। अभिषेक पूजन के बाद भगवान को नए वस्त्र तथा सप्तधान मुखारविंद धारण कराया जाएगा। भगवान को चावल,मूंग, तिल, मसूर, गेहूं, जौ, साल, उड़द आदि सप्तधान अर्पित किए जाएंगे। इसके बाद तड़के 4 बजे पुजारी सवा मन फल, फूल ,बिल्वपत्र व आंकड़े से बना सेहरा सजा कर आरती करेंगे। शुक्रवार सुबह 10 बजे तक महाकाल के सेहरा दर्शन होंगे।

दोपहर में होगी भस्मारती

शुक्रवार दोपहर 12 बजे साल में एक बार दिन में होने वाली भस्मारती होगी। इसके आधा घंटा बाद भोग आरती होगी। इसके साथ ही महाशिवरात्रि पर्व संपन्न् होगा। पश्चात मंदिर समिति द्वारा पुजारियों को भोजन कराकर दक्षिणा भेंट की जाएगी।

6 एएसपी, 16 सीएसपी-डीएसपी के साथ 1000 का बल

शिवरात्रि पर हजारों की संख्या में लोग महाकालेश्वर मंदिर दर्शनों को पहुंचेंगे। लोगों की सुरक्षा व्यवस्था और भीड़ नियंत्रण के मद्देनजर 6 एएसपी, 16 सीएसपी-डीएसपी, 25 थाना प्रभारी, 63 एसआई, 46 एएसआई, 63 महिला आरक्षक सहित कुल 1000 पुलिस अधिकारियों व जवानों को 6 शिफ्टों में ड्यूटी पर लगाया गया है। खास बात यह कि पुलिस लाइन के अलावा बाहर से भी अतिरिक्त पुलिस फोर्स बुलाया गया है। श्रद्धालुओं और मंदिर की सुरक्षा के मद्देनजर सभी चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाकर कंट्रोल रूम के माध्यम से नजर रखी जा रही है।

महाकाल घाटी वाला मार्ग प्रतिबंधित किया

महाकाल चौराहे से बड़ा गणेश मंदिर की ओर महाकाल घाटी वाला मार्ग पैदल अथवा वाहन सभी प्रकार के आवागमन के लिये प्रतिबंधित किया गया है। यहां पर पुलिस द्वारा बेरिकेडिंग करने के साथ ही महाकाल मंदिर की तरफ आने वाले गलियों के मार्गों को भी बंद कर दिया जाएगा।