////

सफाईकर्मी ने किया कोरोना पेशेंट से दुष्कर्म, ज्यादती के बाद हालत बिगड़ी,महिला की मौत

मेमोरियल हास्पिटल में कोरोना पीड़ित से दुष्कर्म

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। जिससे यह पता चलता है कि महिलाओं के लिए अब कोविड सेंटर और अस्पताल भी सुरक्षित नहीं हैं। कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के दौर से गुजर रहे भोपाल मेमोरियल अस्पताल में कोरोना रोगी से दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया है। दुष्कर्म की शिकार महिला की मौत हो चुकी है। पूरे मामले को अस्पताल प्रबंधन छिपाता रहा। मामला सामने आने के बाद राज्य सरकार ने गुरुवार को इस मामले में जांच के आदेश दिये हैं ।

एक बार फिर सुर्खियों में भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर

1984 के भोपाल गैस कांड के बाद सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश पर पीड़िता के उपचार के लिए स्थापित भोपाल मेमोरियल अस्पताल की गिनती एक समय पर प्रदेश के श्रेष्ठ अस्पतालों में हुआ करती थी। धीरे-धीरे अस्पताल अपनी चमक खोता गया। अच्छे डाॅक्टरों के इस्तीफों और सुविधाओं की कमी के साथ अनेक प्रकार के विवाद इससे जुड़ते चले गये। यह अस्पताल कोरोना रोगी से दुष्कर्म और पूरा मामला छिपाये जाने को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में है। भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में कोरोना संक्रमित महिला से सफाई कर्मी द्वारा दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पुराने भोपाल के काजी कैम्प में रहने वाली महिला से 6 अप्रैल को BMHRC में दुष्कर्म हुआ। महिला ने इसकी जानकारी अस्पताल की नर्सेज को दी। इसके बाद पुलिस को बुलाया गया। जबकि घटना के तुरंत बाद पीड़ित की तबीयत अचानक बिगड़ गई थी जिसके बाद उसे वेंटिलेटर पर रख दिया और अगले ही दिन उसकी मौत हो गई। 6 अप्रैल को हुई इस घटना पर निशातपुरा पुलिस द्वारा सफाईकर्मी संतोष पर दुष्कर्म की धारा-376 में मामला दर्ज कर आरोपी को जेल भेज दिया । लेकिन पुलिस या अस्पताल ने इसकी सूचना युवती के परिवार को नहीं दी ।

अस्पताल और पुलिस शक के घेरे में दिखे

अस्पताल में महिला से दुष्कर्म और उसकी मौत के बाद पुलिस ने केस दर्ज किया, लेकिन इस मामले को जिला प्रशासन छुपाता रहा । मामला सामने आने के बाद से अस्पताल प्रबंधन और पुलिस में हड़कंप है।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग कराएंगे मामले की जांच

प्रदेश के ने भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में हुई दुष्कर्म की घटना को लेकर कहा कि जो भी इस घटना में लिप्त रहेगा उन्हें बक्शा नहीं जाएगा । उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। सरकार के संकेत से साफ है कि मामले पर परदा डालने वालों पर भी गाज गिरेगी ।