Mradhubhashi
Search
Close this search box.

सावन का सोमवार और नाग पंचमी आज, इस दुलर्भ योग पर पूजा के मिलेंगे जबरदस्त लाभ

सावन का सोमवार और नाग पंचमी आज, इस दुलर्भ योग पर पूजा के मिलेंगे जबरदस्त लाभ

Sawan Somvar and Nag Panchami 2023: आज नाग पंचमी है। इसके साथ ही सावन का सोमवार है। यह बेहद दुलर्भ संयोग है। इस दिन पूजा-अर्चना करने से दोहरा लाभ मिलता है। हर साल सावन महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि के दिन नाग पंचमी मनाई जाती है। इस दिन कई लोग उपवास भी रखते हैं। ऐसी मान्यता है कि नाग पंचमी के दिन उपवास और व्रत कथा का पाठ करने से इंसान को हर प्रकार की समस्या से निजात मिल जाती है।

वैदिक पंचांग के मुताबिक श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि 21 अगस्त की मध्य रात 12:21 बजे से शुरू है। यह 22 अगस्त की रात 2 बजे समाप्त होगी। पंचांग के मुताबिक नाग पंचमी पर्व के दिन पूजा मुहूर्त सुबह 5:53 बजे से सुबह 8:30 बजे तक रहेगा। वैदिक पंचांग का कहना है कि नाग पंचमी पर श्रावण सोमवार व्रत के दिन रखा जाएगा। नाग पंचमी के दिन वासुकि, अनंत, पद्म, महापद्म, तक्षक, कुलीर, कर्कट और शंख नाग की पूजा की जाती है।

पूरी रात रहेगी चित्रा नक्षत्र
चित्रा नक्षत्र पूरी रात रहेगी। शुभ योग रात 10:21 बजे तक रहेगा। उसके बाद शुक्ल योग शुरू होगा। श्रावण शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि की सुबह पूजा काल में एक साफ चौकी पर नाग देवता का चित्र या मिट्टी से बने हुए सर्प की मूर्ति बनाए करें। फिर नाग देवता को हल्दी, रोली, चावल, फूल अर्पित करें। दूध घी एवं चीनी मिलाकर चढ़ाएं। फिर पूजा के अंत में नाग पंचमी व्रत कथा सुनें। इसके बाद आरती करें।

पूरी रात रहेगी चित्रा नक्षत्र

नाग पंचमी का क्या है महत्व
धार्मिक मान्यताएं बताती हैं कि नाग पंचमी पर्व के दिन नाग देवता की पूजा-अर्चना करने और सांपों को दूध पिलाने से अक्षय पुण्य मिलेगा। नाग देवता भगवान शिव के प्रिय हैं। नाग पंचमी के दिन भगवान शिव और नाग देवता की पूजा-अर्चना करने से जीवन में सुख-समृद्धि आती है।

सावन का सोमवार और नाग पंचमी आज, इस दुलर्भ योग पर पूजा के मिलेंगे जबरदस्त लाभ

ये भी पढ़ें...
क्रिकेट लाइव स्कोर
स्टॉक मार्केट