/

रतलाम कलेक्टर के निर्देश-स्वास्थ्य विभाग को कोविड के साथ इन बीमारियों पर भी देना होगा ध्यान

रतलाम। रतलाम में समय सीमा पत्रों की समीक्षा बैठक सोमवार शाम संपन्न हुई। कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि कोरोना के अलावा स्वास्थ्य विभाग अन्य बीमारियों पर भी ध्यान देवें। वर्तमान मौसम में डेंगू, मलेरिया जैसी बीमारी पनप सकती हैं। स्वास्थ्य विभाग का मैदानी अमला एवं राजस्व विभाग का अमला ग्रामीण क्षेत्रों में नजर रखें।

कलेक्टर ने इस बात पर नाराजगी व्यक्त की कि जिले के दो गांव में डेंगू के मरीज सामने आने की सूचना स्वास्थ्य विभाग या राजस्व के मैदानी अमले से प्राप्त नहीं हुई। कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिए कि सभी खंड चिकित्सा अधिकारी अपने मैदानी अमले से रिपोर्ट प्राप्त करें कि कहीं किसी गांव में मलेरिया या डेंगू जैसी कोई बीमारी तो नहीं फैली हुई है। बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्रीमती मीनाक्षीसिंह, अपर कलेक्टर श्रीमती जमुना भिड़े तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि कांटेक्ट ट्रेसिंग पर ध्यान देवें। कोरोना के मरीज से जिन लोगों का संपर्क हुआ है उनकी व्यापक स्तर पर ट्रेसिंग की जाए। जिन लोगों को होम आइसोलेट किया जाता है वो अपने घर में ही रहे, इधर-उधर नहीं घूमे, इसका ध्यान रखें।

प्लान बनाकर प्रस्तुत करें टाइम पास नहीं करें

कलेक्टर ने विगत बैठक में जिले में व्यापक स्तर पर वृक्षारोपण कार्य के लिए अलग-अलग विभागों को कार्य योजना बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे। वर्तमान बैठक में समीक्षा के दौरान कलेक्टर द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी के प्रति सख्त नाराजगी व्यक्त की गई। कलेक्टर ने कहा कि टाइम पास नहीं किया जाए, कार्य को गंभीरता से लिया जाए। जिला शिक्षा अधिकारी अपने विभाग के अंतर्गत किए जाने वाले प्लांटेशन के संबंध में विशुद्ध कार्ययोजना प्रस्तुत करें। इसके साथ ही जावरा मुख्य नगरपालिका अधिकारी द्वारा यह जानकारी दिए जाने पर कि जावरा में 25000 पौधे लगाए जाएंगे। कलेक्टर ने कहा कि इस प्रकार की फर्जी जानकारी प्रस्तुत नहीं की जाए। इस संबंध में जावरा सीएमओ द्वारा कोई विस्तृत कार्य योजना भी नहीं बताई गई। कलेक्टर ने कहा कि जावरा में 5000 पौधे लगाए जाकर उनकी उचित देखभाल का इंतजाम किया जाए। राजस्व विभाग को 1000 पौधे लगाने के निर्देश दिए गए। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग अपने परिसरों में 500 पौधे लगाएगा। शिक्षा विभाग 8000 पौधे लगाएगा, अन्य विभागों के भी लक्ष्य तय किए गए।

विद्युत वितरण कंपनी द्वारा लाइट बंद हो जाने के दौरान रिस्पांस टाइम को सुधारा जाए

कलेक्टर ने जिला चिकित्सालय में रेडक्रास द्वारा संचालित अल्ट्रासोनिक मशीन के संबंध में जानकारी लेते हुए कहा कि एक साल से मशीन खराब है, ऐसी रिपोर्ट प्राप्त हुई है। डिप्टी कलेक्टर शिराली जैन को निर्देशित किया गया कि मशीन को सुधरवाकर चालु किया जाए। उद्यानिकी विभाग के अंतर्गत जिले के 7 किसानों को शासन की योजना में बैंक ऋण स्वीकृत कराने के संबंध में जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक को निर्देशित किया गया। इसका अलावा विद्युत वितरण कंपनी के अधीक्षण यंत्री को निर्देशित किया गया कि विद्युत वितरण कंपनी द्वारा लाइट बंद हो जाने के दौरान रिस्पांस टाइम को सुधारा जाए।

आम आदमी की समस्याओं के प्रति संवेदनशील होकर निर्णय लेवे

मुख्यमंत्री हेल्पलाइन की भी समीक्षा की गई। कलेक्टर ने राजस्व विभाग को निर्देशित किया कि प्रकरणों में निराकरण की स्थिति को सुधारा जाए। कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि हम आम आदमी की समस्या के निराकरण के लिए नियुक्त किए गए हैं। अतः राजस्व अधिकारी आम आदमी की समस्याओं के प्रति संवेदनशील होकर निर्णय लेवे।