खाद्य विभाग की टीम कल्याण मार्केटिंग के कारखाने पर पहुँची
/////

इंदौर में पैर पसार रहा है राशन माफिया, जानिए कैसे पहुंचा रहा है आपकी सेहत को नुकसान

इंदौर| कलेक्टर के विशेष निर्देश पर खाद्य विभाग की टीम ने तेजपुर गड़बड़ी स्थित उचित मूल्य की दुकान कल्याण मार्केटिंग के कारखाने पर छापा मारा। यहां पर गंदगी के बीच एक ही परिसर में हल्दी, मिर्च, धनिया, बेसन, चायपत्ती, डिटर्जेंट पाउडर सहित करीब 16 प्रोडक्ट की पैकिंग की जा रही थी। सभी के सेम्पल लिए गए है। पूरा मामला सामने आने के बाद जिला आपूर्ति नियंत्रक आरसी मीणा को संस्पेंड किया गया है।


खाद्य विभाग की टीम बुधवार शाम चोइथराम सब्जी मंडी के पास बने कल्याण मार्केटिंग के कारखाने पर पहुँची। यहां एक बड़े टीन शेड में गंदगी के बीच एक ही परिसर में हल्दी, मिर्च, धनिया, बेसन, चायपत्ती, डिटर्जेंट पाउडर सहित करीब 16 प्रोडक्ट की पैकिंग की जा रही थी। फर्म का मालिक भरत दवे मौके से भाग निकला, उसका बेटा तुषार मौके पर पकड़ाया है। यह पैकेट पर मिस ब्रांडिंग के साथ ही बैच नंबर और पैकिंग की जानकारी नहीं मिली। घटिया माल कि उपभोक्ता शिकायत ना कर सकें इसके लिए कंज्यूमर कंप्लेंट एड्रेस और कंज्यूमर कंप्लेंट ई-मेल आईडी भी नहीं मिली है। इस घटिया सामना को भरत दवे सेटिंग कर कंट्रोल दुकानों से बिकवाता था।

दो दिन पहले 13 राशन दुकानों पर की गई कार्रवाई के दौरान प्राथमिक जांच में यह पाया गया कि राशन माफिया भरत दवे अपनी दुकान के नाम से ब्रांड बनाकर कई तरह की सामग्री सरकारी राशन दुकानों में जबरदस्ती बिकवाता था, इसमें खाद्य विभाग के अधिकारियों की अनदेखी और संलिप्तता भी देखने को मिली है, जिसके बाद कलेक्टर मनीष सिंह ने राशन माफियाओं से संबंध सामने आने पर जिला आपूर्ति नियंत्रक आरसी मीणा को संस्पेंड किया है। खास बात ये है कि मीणा भरत दवे के लगातार संपर्क में था जिसकी रिकॉर्डिंग भी कलेक्टर को मिली है।

मामले में राजेंद्र नगर पुलिस ने भरत दवे पर धोखाधड़ी व अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है। वहीं आज निगम की टीम इस कारखाने को रिन्यूवल करेगा।