//

राहुल गांधी ने मीटिंग में ज्योतिरादित्य सिंधिया को बताया डरपोक और RSS का आदमी

Start

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन नेताओं पर निशाना साधा, जो पार्टी छोड़कर जाना चाहते हैं। उन्होंने कहा जो डरते हैं, वे पार्टी छोड़कर चले जाएं। हमें डरपोक नहीं बल्कि निडर नेताओं की जरुरत है। जो डरते हैं उन्हें पार्टी से निकालो। राहुल गांधी सोशल मीडिया से जुड़े पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। जो हमारी पार्टी में रहकर डरे हुए हैं उन्हें बाहर निकालने की जरुरत है। राहुल ने कहा कि यह आरएसएस के लोग हैं और उन्हें चले जाना चाहिए, उन्हें मजे करने दीजिए। हमें वैसे लोग नहीं चाहिए, उनकी कोई जरुरत नहीं है। हमें निडर लोगों की जरुरत है यह हमारा सिद्धांत है। यह आप सभी के लिए मेरा मैसेज है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया पर साधा निशाना

अपने संबोधन में ज्योतिरादित्य सिंधिया का उदाहरण देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि उन्हें अपना घर बचाना था और वो डर गए थे इसलिए उन्होंने आरएसएस ज्वाइन कर लिया। पिछले कुछ दिनों में कांग्रेस पार्टी छोड़ने वालों में कई बड़े नाम शामिल हैं। इनमें सिंधिया के अलावा, जितिन प्रसाद, महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता नारायण राणे और राधाकृष्ण विखे पाटिल जैसे चेहरे शामिल हैं। यह पहला मौका है जब राहुल गांधी ने करीब 3,500 पार्टी कार्यकर्ताओं को जूम के जरिये वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया है।

ऐसे लोगों की है जरूरत

राहुल गांधी ने कहा कि कई निडर लोग हैं, जो कांग्रेस में नहीं है। ऐसे लोगों को आना चाहिए और वैसे कांग्रेसी जो बीजेपी से डरे हुए हैं, उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जाना चाहिए। उन्होंने सोशल मीडिया के सदस्यों से कहा कि वो सभी उनके परिवार का हिस्सा हैं इसलिए कभी भी उनसे बात करने में वो हिचकिचाए या डरे नहीं। उन्होंने कहा कि आप अपने भाई से बात कर रहे हैं और आपको ऐसे में डरना नहीं चाहिए।

महात्मा गांधी के मार्ग पर चलें

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और तेलंगाना कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी ने इस मौके पर कहा कि राहुल गांधी, महात्मा गांधी के बताए रास्ते पर चलते हैं। वो आरएसएस और बीजेपी के नफरत फैलाने के एजेंडे को महात्मा गांधी के बताए मार्ग पर चलकर खत्म करना चाहते हैं।

भाजपा की फेक न्यूज से डरने की जरुरत नहीं

राहुल ने कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्हें भाजपा के फेक न्यूज से डरने की जरूरत नहीं है। जो डरते हैं उन्हें पार्टी से निकालो, और बहुत से निडर लोग हैं, जो कांग्रेस में नहीं हैं, उन्हें अंदर लाया जाना चाहिए। हमें उन लोगों की जरूरत नहीं है जो आरएसएस की विचारधारा में विश्वास करते हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव के समय से ही कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए हैं। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया को हाल में ही मोदी की कैबिनेट में जगह मिली है।