//

Punjab Cabinet: कैबिनेट से पत्ता कटने पर रोने लगे पूर्व मंत्री, कहा हमसे क्या भूल हुई?

Start

Punjab Cabinet: पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के पहले कैबिनेट ने आज शपथ ली। कैबिनेट में 15 नए मंत्रियों ने पद और गोपनीयता की शपथ ली। इस मंत्रीमंडल में पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के करीबी रहे 5 मंत्रियों की छुट्टी हो गई है। इस विस्तार के बाद कई नेताओं का असंतोष भी खुलकर सामने आ गया और उन्होंने पार्टी के फैसले पर सवाल खड़े किए हैं। एक मंत्री अपना दर्द नहीं छिपा पाए और उनकी आंखों से आंसू बह निकले।

जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस कर निकाली भड़ास

कैबिनेट विस्तार से चंद मिनट पहले अमरिंदर सरकार में मंत्री रहे बलबीर सिंह सिधू और गुरपीत सिंह कांगर ने जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस की और पार्टी से पूछा कि आखिर उनकी गलती क्या थी। किस वजह से उनको मंत्री पद से हटाया गया। बलबीर सिंह मीडिया को संबोधित करते हुए भावुक हो गए। कांगर ने भी यह सवाल किया। चन्नी मंत्रीमंडल में रविवार को 15 नए मंत्रियों ने शपथ ली। मंत्रीमंडल में कई नए चेहरों को जगह दी गई है। कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले मनप्रीत सिंह बादल, ब्रह्म मोहिंदरा, अरूणा चौधरी, तृप्त रजिंदर सिंह बाजवा, सुखविंदर सिंह सरकारिया, रजिया सुल्ताना, विजेंद्र सिंह सिंगला, भरत भूषण आशु पिछली कैप्टन सरकार में भी कैबिनेट मंत्री थे।

7 नए चेहरे मंत्रीमडल में शामिल

इसके अलावा 7 नए चेहरों में राणा गुरजीत सिंह, रणदीप सिंह नाभा, राज कुमार वेरका, संगत सिंह गिल्जियां, परगट सिंह, अमरिंदर सिंह राजा बडिंग और गुरकीरत सिंह कोटली ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। शपथ ग्रहण को लेकर मचे असंतोष पर बोलते हुए प्रदेश प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि जिन वरिष्ठ नेताओं को मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है उनके बारे में पार्टी ने कुछ सोच रखा है। ऐसे नेताओं को पार्टी संगठन में समायोजित कर अहम जिम्मेदारियां दी जाएंगी। उन्होंने नए मंत्रिमंडल को हर लिहाज से संतुलित बताया और कहा कि इसमें सभी वर्गों को प्रतिनिधित्व दिया गया है।