////

केमिकल से चिप्स बनाने के कारखाने का हुआ भंडाफोड़

इस कारखाने में चिप्स के कई फ्लैवर तैयार किए जा रहे थे।

इंदौर। इंदौर में मिलावट खोरों के खिलाफ जारी प्रशासन की मुहिम के तहत सांवेर रोड़ पर एक बड़े गोरखधंधे का खुलासा सोमवार को हुआ है। कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देश पर सांवेर रोड़ स्थित अवंतिका नगर में एक कारखाने पर अपर कलेक्टर अभय बेडेकर के नेतृत्व में प्रशासन की टीम ने धावा बोला। सांवरियां फूड प्रोडक्ट नामक कारखाने में प्रवेश करते ही अधिकारी हैरान रह गए। यहां दुर्गंध सड़े हुए आलूओं को केमिकल से धोकर चिप्स तैयार की जा रही थी।

सड़े आलूओं से बन रही थी चिप्स

एसआरडी चिप्स के नाम से पैक इन चिप्स को कई फ्लैवर में तैयार किया जा रहा था। इसके बाद उन्हे पैकिंग कर मार्केट में बिक्री के लिए भेजा जा रहा था। मौके पर की गई तलाशी में करीब डेढ़ हजार क्विंटल सड़ा आलू और केमिकल अधिकारियों ने बरामद किया। कारखाने का संचालक सुखलाल कुमावत है जो मौके से नदारद हो गया। सांवरियां फूड पर जिस केमिकल से सड़े गले आलूओं को धोया जा रहा था वह खाने योग्य नहीं है।

चिप्स के नाम पर बिक रहा था जहर

अधिकारियों का कहना है कि यह हाईड्रो पावडर है जिसका उपयोग अन्य कार्यों के लिए किया जाता है। खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वाले लोगों को सीधा जहर खिलाने से भी बाज नहीं आते। सुंदर पैकिंग और प्रिजर्व मसालों के चक्कर में लोग अनजाने में ही इस जहर का शिकार बन जाते है।