//

पीएम मोदी ने दुनिया की पांच प्रमुख कंपनियों के सीईओ के साथ की मुलाकात और कही यह बात

Start

PM Modi in America: अमेरिका दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को दुनिया की पांच प्रमुख कंपनियों के सीईओ के साथ मुलाकात की। पीएम मोदी की इन कॉर्पोरेट दिग्गजों से मुलाकात भारत को तकनीक के क्षेत्र में उन्नत बनाने को लेकर थी।

अमेरिका दौरे पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को अलग-अलग क्षेत्र की पांच प्रमुख कंपनियों के सीईओ के साथ मुलाकात की। जिन पांच कंपनियों के शीर्ष अधिकारियों से पीएम मोदी ने मुलाक़ात की, उनमे एडोब के सीईओ शांतनु नारायण और जनरल एटॉमिक्स के सीईओ विवेक लाल भारतीय मूल के अमेरिकी हैं। पीएम मोदी और एडोब के सीएओ के साथ हुई बैठक को लेकर विदेश मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री और शांतनु नारायण के बीच चर्चा युवाओं को स्मार्ट शिक्षा प्रदान करने और भारत में अनुसंधान को बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने पर केंद्रित थी।

क्वालकाम सीईओ 5जी के इच्छुक

क्वालकाम के सीईओ क्रिस्टिआनो एमोन ने 5जी में रुचि दिखाई।’ एमोन ने भारत में सेमीकंडक्टर के क्षेत्र में भी काम करने की इच्छा जताई। प्रधानमंत्री ने उन्हें आश्वस्त किया कि भारत उनके प्रस्तावों पर गंभीरता से काम करेगा। पीएम मोदी ने उनसे नई उदारवादी ड्रोन नीति के बारे में भी बात की और कहा कि क्वालकाम नए उभरते हुए बाजार में नए अवसरों का लाभ उठा सकती है।

फ‌र्स्ट सोलर के सीईओ से अक्षय ऊर्जा पर चर्चा

फ‌र्स्ट सोलर के सीईओ मार्क विडमार के साथ बातचीत में पीएम मोदी ने भारत में अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में अवसरों पर बात की और सोलर पैनल बनाने वाली इस कंपनी को देश में निवेश के लिए आमंत्रित किया। इस दौरान विडमार ने पीएलआइ स्कीम के जरिये सौर ऊर्जा उपकरणों के उत्पादन की योजना साझा की।

एडोब सीईओ के साथ निवेश पर हुई चर्चा

एडोब के सीईओ शांतनु नारायण के साथ प्रधानमंत्री ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ), स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे सेक्टरों में कंपनी की निवेश योजनाओं पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने डिजिटल इंडिया कार्यक्रम और स्वास्थ्य, शिक्षा व अनुसंधान-विकास जैसे क्षेत्रों में नई तकनीकों के इस्तेमाल पर भी बात की।

जनरल एटोमिक्स के सीईओ से रक्षा तकनीक पर की बात

जनरल एटोमिक्स के सीईओ विवेक लाल से बातचीत में प्रधानमंत्री ने भारत के रक्षा तकनीक क्षेत्र को मजबूत बनाने पर बात की। भारत और अमेरिका के बीच कुछ बड़े रक्षा सौदों में प्रमुख भूमिका निभाने वाले लाल ने भारत में रक्षा और नई प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हालिया नीतिगत बदलावों की सराहना की।