खैरात में मिली वैक्सीन की खुरक लेने के दो दिन बाद पाक PM हुए पॉजिटिव
////

खैरात में मिली वैक्सीन की ख़ुराक लेने के दो दिन बाद पाक PM हुए पॉजिटिव

नई दिल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने गुरुवार को ही चीन की वैक्सीन की पहली डोज लगवाई थी। कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद इमरान खान होम आइसोलेशन में चले गए हैं। हाल ही में पाकिस्तान को चीन से करीब पांच लाख वैक्सीन की डोज दान में मिली हैं। इसके बाद प्रधानमंत्री इमरान खान ने वैक्सीन लगवाई। हालांकि, इमरान खान को अभी पहली डोज ही लगी है। संक्रमण से बचने के लिए दो डोज लगवानी जरूरी हैं।

वैक्सीन लगवाने के बाद इमरान खान ने अपने देश के लोगों से महामारी के मामलों में वृद्धि को रोकने के लिए नियमों का पालन करने का आग्रह किया था। खान के कार्यालय ने ट्वीट किया था कि प्रधानमंत्री इमरान खान को टीका लगाया गया। इस अवसर पर उन्होंने देश के लोगों से महामारी की तीसरी लहर के मद्देनजर एसओपी को पूरी तरह से मानने का आग्रह किया। पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। पाकिस्तान में शनिवार को इस साल एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक 3,876 नए मामले सामने आए, जिसके साथ ही देश में संक्रमण दर बढ़कर 9.4 प्रतिशत हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में अब तक 623,135 लोग वायरस से संक्रमित पाए जा चुके हैं। बीते 24 घंटे के दौरान 40 रोगियों की मौत के बाद मृतकों की संख्या 13,799 हो गई है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान ने अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनाई है। इसके अलावा, वह इस साल वैक्सीन खरीदने पर भी विचार नहीं कर रहा है। दरअसल, पाकिस्तान चीन की वैक्सीन और खैरात में अन्य देशों से मिलने वाली वैक्सीन के भरोसे ही बैठा हुआ है। इन्हीं वैक्सीन्स के बदौलत पाकिस्तान ने 60 साल से अधिक उम्र वाले लोगों का वैक्सीनेशन भी हाल में शुरू किया है। पाकिस्तान का लक्ष्य इस साल के अंत तक 7 करोड़ लोगों को टीका देने का है।

चीनी वैक्सीन से पाकिस्तान में चालू है वैक्सीनेशन प्रोग्राम

इससे पहले, एक फरवरी को चीन ने पाकिस्तान को सिनोफार्म द्वारा निर्मित 5 लाख वैक्सीन डोज दान में दी थी. इसके एक दिन बाद ही पाकिस्तान में वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत हुई थी. पाकिस्तान में अब तक छह लाख से अधिक लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं. हालांकि, आम लोगों के लिए वैक्सीनेशन की शुरुआत 10 मार्च से की गई. फिलहाल वैक्सीनेशन में बुजुर्गों को प्राथमिकता दी जा रही है. वहीं, फरवरी में स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाई गई थी.