आउटसोर्स कर्मचारियों ने ठेकेदारी प्रथा समाप्त करने के लिए किया प्रदर्शन

भोपाल। सोमवार को राजधानी भोपाल के गोविंदपुरा स्थित बिजली गेट पर आउटसोर्सिंग बिजली कर्मियों ने कार्य का बहिष्कार कर अनिश्चितकालीन काम बंद हड़ताल करते हुए धरना प्रदर्शन किया।

मध्य प्रदेश बिजली आउटसोर्स कर्मचारी संघ के बैनर तले हुए कार्य बहिष्कार के दौरान धरना प्रदर्शन में बड़ी तादाद में आउटसोर्सिंग कर्मचारी शामिल हुए। आउटसोर्स कर्मचारियों का आरोप है कि सरकार उनके साथ छलावा कर रही है और चुनाव के समय किए गए वादों को सरकार ने अब तक भी पूरा नहीं किया है। प्रांतीय संयोजक मनोज भार्गव ने कहा कि सरकारों ने बिजली व्यवस्था को ठेकेदारी प्रथा पर सौंप दिया है और वही ठेकेदार अब आउटसोर्स कर्मचारियों का खून चूसने का काम कर रहे हैं।

उन्होंनो कहाँ कि सरकार को जल्द ठेकेदारी प्रथा समाप्त कर आउटसोर्स कर्मचारियों को न्याय देना चाहिए। मनोज भार्गव ने कहा कि सरकार जो वेतन आउटसोर्स कर्मचारियों को ठेकेदारी के माध्यम से देती है अगर वही वेतन डायरेक्ट देगी तो उसके ऊपर वित्तीय भर नहीं आएगा। उन्होंनो कहा कि जो ज़िस पद पर काम कर रहा है उन्हें उसी पद पर नियमित कर दीजिए जिससे वित्तीय भार नहीं आएगा और बिजली देने का काम भी 24 घंटे सुचारू रूप से हो सकेगा।

मृदुभाषी के लिए भोपाल से मोहम्मद ताहिर खान की रिपोर्ट