एक बार फिर कोरोना महामारी के कारण बढ़ेगा पाबंदियों का दौर

Start

कोरोना का ओमिक्रॉन वैरिएंट दुनियाभर के लिए खतरे के साथ ही पाबंदियों का दौर भी वापस लेकर आ गया है। टीकाकरण की तेज रफ्तार के साथ ही उम्मीद की जा रही थी कि कोरोना का कहर मंद पड़ेगा।

बतादें कि ब्रिटेन सरकार कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के प्रसार की गति को थामने के लिए क्रिसमस के बाद दो सप्ताह के लॉकडाउन की योजना बना रही है। मीडिया में शनिवार को प्रकाशित रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है। ब्रिटेन में शुक्रवार को कोविड-19 संक्रमण के रिकॉर्ड 93,045 मामले सामने आए। ओमीक्रॉन संक्रमण के मामले लंदन और स्कॉटलैंड में तेजी से बढ़े हैं। लंदन के अस्पतालों में कोविड-19 संक्रमितों की संख्या पिछले सप्ताह की तुलना में 28.6 प्रतिशत बढ़कर 1,534 हो गई है।

Covid Real hospital concepts


यूरोप में विभिन्न देश सबसे अधिक संक्रामक वैरिएंट ओमिक्रॉन से उत्पन्न हुई कोविड-19 की संभावित नई लहर से बचने के लिए कड़ी पाबंदियां लगा रहे हैं। इस महामारी के मामलों में तीव्र वृद्धि के बीच फ्रांस और आस्ट्रिया के मंत्रियों ने यात्रा पाबंदियां कड़ी कर दी हैं। फ्रांस ने नए साल पर आतिशबाजी रद्द कर दी है। डेनमार्क ने थियेटर, कंसर्ट हॉल, मनोरंजन पार्क एवं संग्रहालय बंद कर दिए हैं।

जर्मनी ने ओमिक्रॉन के प्रसार के बीच ब्रिटेन को उच्च जोखिम की श्रेणी में शामिल कर वहां से आने वाले लगभग सभी यात्रियों पर सोमवार से अस्थायी रोक लगा दी है। रॉबर्ट कोच इंस्टीट्यूट ने शनिवार को बताया कि ब्रिटेन और उत्तरी आयरलैंड तथा आइल ऑफ मैन और चैनल द्वीप समूह से जर्मनी की यात्रा पर प्रतिबंध सूची में शामिल किया गया है। यहां की यात्रा पर 20 दिसंबर सुबह से प्रतिबंध प्रभावी होगा। इंस्टीट्यूट के अनुसार अस्थायी प्रतिबंध कम से कम तीन जनवरी 2022 तक प्रभावी रहेंगे। जिन यात्रियों को प्रतिबंध के बावजूद जर्मनी में प्रवेश करने की अनुमति है उन्हें पीसीआर परीक्षण कराना होगा और एक अनिवार्य क्वॉरंटीन में रहना होगा।

अमेरिका के न्यूयॉर्क राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में 21,000 से अधिक मामले सामने आए, जो देश में अब तक के सर्वाधिक दैनिक मामले हैं। संक्रमण के करीब आधे मामले न्यूयॉर्क सिटी में सामने आए, जहां जांच केंद्रों के बाहर कतारें लंबी हो रही हैं और क्रिसमस पर समारोह का आयोजन करने वाले कई आयोजक अपने सदस्यों के संक्रमित होने के कारण कार्यक्रम रद्द कर रहे हैं।

न्यूयॉर्क की ‘सिटी यूनिवर्सिटी’ में ‘इंस्टीट्यूट फॉर इम्प्लीमेंटेशन साइंस इन पॉप्यूलेशन हेल्थ’ के कार्यकारी निदेशक डॉ. डेनिस नाश ने कहा कि संक्रमण में तेज वृद्धि अत्यधिक चिंता का विषय होना चाहिए, लेकिन ओमिक्रॉन वैरिएंट का संक्रमण बहुत तेजी से फैलने के कारण ऐसा होना ही था।” इससे पहले, राज्य में सर्वाधिक दैनिक मामले 14 जनवरी, 2021 को सामले आए थे, जब करीब 20,000 लोग संक्रमित पाए गए थे।

यह है भारत के हाल

शनिवार को देश में ओमिक्रॉन वैरिएंट के 30 नए केस सामने आए। इससे पहले शुक्रवार को 26 नए केस सामने आए थे। पिछले तीन दिनों से देश में ओमिक्रॉन संक्रमण की रफ्तार बढ़ रही है। इस तरह देश में अब तक ओमिक्रॉन के 143 केस दर्ज हो चुके हैं। देश के 12 राज्यों में ओमिक्रॉन संक्रमण का पता चल पाया है। एक्सपर्ट के मुताबिक, ये देश में चिंता का कारण है। हालांकि एक्सपर्ट्स ने कोरोना से बचाव के तरीकों को अपनाने की बात कही है। शनिवार को देश में ओमिक्रॉन के रिकॉर्ड 30 नए केस सामने आए। इसमें तेलंगाना में 12, महाराष्ट्र में आठ, कर्नाटक में छह और केरल में चार नए मामले शामिल हैं। देश में लगातार तीसरे दिन ओमिक्रॉन मामलों में सबसे अधिक एक दिवसीय वृद्धि देखी गई है।