///

Gurus Purnima: गुरु पूर्णिमा के अवसर पर ‘मृदुभाषी’ संग साझा किए शहर के नामचीन शिक्षकों ने अपने विचार

Start

Talk to Gurus: गुरू पूर्णिमा के अवसर पर मृदुभाषी Youtube चैनल और Website पर इंदौर शहर के मशहूर गुरूओं के सम्मान में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। Talk to Gurus नाम के इस प्रोग्राम में प्रदेश के जाने माने गुरुओं ने अपनी गरिमामयी उपस्थिति से कार्यक्रम को सफल बनाया। कार्यक्रम में कौटिल्य एजुकेशन ग्रुप के एमडी श्रीद्धांत जोशी जी, नाहटा एकेडमी के डॉयरेक्टर अनिल नाहटा, एलएन करियर इंस्टिट्यूट के इंदौर सेंटर हेड श्री कमल शर्मा और मध्यप्रदेश कोचिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री एल. एन. बकोरिया उपस्थित रहे।

कार्यक्रम में मृदुभाषी ग्रुप के एडमिन डॉयरेक्टर राजेंद्र कोठारी, मृदुभाषी ग्रुप के डॉयरेक्टर देवाशीष कोठारी , मृदुभाषी ग्रुप के सीएमडी जीतेन्द्र कोठारी , एग्जीक्यूटिव एडिटर कुमार अशोक, डेस्क हेड विनय सिंह बघेल, एचआर हेड अविनाश खरे समेत समस्त पदाधिकारी मौजूद रहे। कार्यक्रम की शुरुआत उपस्थित गुरुजनों के स्वागत और सम्मान से हुई।राजेंद्र कोठारी और देवाशीष कोठारी ने सभी गुरुजनों का पुष्पगुच्छ व् ‘मृदुभाषी सम्मान चिन्ह’ से स्वागत किया। इस अवसर पर गुरुजनों से समसामयिक विषयों पर चर्चा करते हुए कोरोना के समय में शिक्षण संस्थानों की भूमिका, विद्यार्थियों के भविष्य और मौजूदा हालातों में पालकों और संस्थानों में सामंजस्य जैसे कई मुद्दों पर खुलकर चर्चा हुई।

पिछली पीढ़ियों से हम लगातार सीख रहे हैं

इस अवसर पर कौटिल्य अकादमी के श्रीद्धांत जोशी ने कहा कि हम गुरूओं का सम्मान इसलिए करते हैं कि हम पिछली पीढ़ियों से लगातार सीखते आ रहे हैं। इसलिए गुरुओं के सम्मान में इस दिन को मनाया जाता है। कोरोना के बाद कोचिंग खुलने पर उन्होंने कहा कि पिछले डेढ़ सालों में मानव समाज को सीख मिली है। वर्तमान में हम कोरोना की समस्या से जूझ रहे हैं, लेकिन हम समस्याओं से जीतकर आगे बढ़े हैं। इसलिए इस समय सावधानी और सतर्कता ज्यादा जरूरी है।

कौटिल्य की पहचान टॉपर परंपरा से

ऑनलाइन क्लास पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि ऑनलाइन से पढ़ाई जारी है, लेकिन क्लास में बैठकर पढ़ाई करने से बच्चों की पर्सनालिटी डेवलप होती है। इसलिए अब लोगों में कोरोना का डर दूर हो रहा है और बच्चों के साथ पेरेंटस के कॉल क्लासेस शुरू करने को लेकर आ रहे हैं। कोरोना में हुई पढ़ाई को लेकर उन्होंने कहा कि सरकारी नौकरी में कोई समस्या नहीं होगी, लेकिन प्राइवेट सेक्टर में खुद को प्रूव करना होगा। कौटिल्य अकॉदमी की सफलता पर उन्होंने कहा कि इसमें दरवाजा खोलने से लेकर शिक्षक तक की अहम भूमिका है। इस कोचिंग को पारिवारिक तौर पर बनाया गया है और कोटिल्य की पहचान टॉपर परंपरा से हैं।

नाहटा अकादमी में जल्द ऑफलाइन क्लासेस

नाहटा अकादमी के सर अनिल नाहटा ने इस अवसर पर कहा कि CA, CS परीक्षा की तैयारी कर रहे हमारे स्टूडेंट्स क्लास आने के इच्छुक हैं और उनके मन में कोरोना से डर नहीं है बल्कि क्लास आने का उत्साह है। ऐसे समय गाइडलाइन का पालन करना थोड़ा मुश्किल है। यह हमारे लिए चुनौती है। इसलिए हम छात्रों को छात्रों को समझाते हैं कि आपका परिवार भी है इसलिए गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन करें। सिलेबस को लेकर उन्होंने कहा कि ऑनलाइन पढ़ाई में बच्चों से संपर्क जीवंत नहीं हो पाता है। इसलिए थोड़ी दिक्कत आती है, लेकिन इसके बावजूद उनमें गंभीरता देखी गई है।

वैक्सीनेशन के बगैर क्लास में अनुमति नहीं

तीसरी लहरी की आशंका और वैक्सीनेशन पर उन्होंने कहा कि हम ऑनलाइन क्लास में बच्चों को वैक्सीनेशन की सलाह देते हैं। वैक्सीनेशन के बगैर क्लास अटेंड में अनुमति नहीं होगी। कोचिंग के पेशे में आने को लेकर उन्होंने कहा कि घर के खराब आर्थिक हालत इस प्रोफेशन में लेकर आए और मजबूरी शौक में बदल गया। सीए बनने के बाद प्रैक्टिस और कोचिंग दोनों की। अब हम बच्चों को अपनी आत्मसंतुष्टि के लिए पढ़ाते हैं। सीए बनने को लेकर उन्होंने कहा कि इसके लिए कड़ी मेहनत की जरूरत होती है।

सफलता का दूसरा नाम है ALLEN

ALLEN क्लास में NEET औऱ JEE की क्लासेस लेने वाले सर कमल शर्मा ने ऑनलाइन क्लासेस को लेकर कहा कि सभी स्टूडेंट्स की इच्छा होती है कि फिजिकल क्लासेस जल्द शुरू हो, लेकिन अभी एग्जाम पास है इसलिए बच्चों को यहीं कहूंगा कि एग्जाम पर फोकस करें। आज के दिन पुराने शिक्षक और अभी जो आपके शिक्षक है उनके बातचीत करें और भविष्य की रूपरेखा बनाएं। सिलेबस की समस्या को लेकर उन्होंने कहा कि अभी बच्चों के पास पर्याप्त समय है इसलिए बच्चे बेहतर तैयारी कर सकते हैं।

स्टूडियो बनाकर चलाई ऑनलाइन क्लासेस

ALLEN की सफलता पर उन्होंने कहा कि ALLEN शहर में पहला कोचिंग था जिसने स्टूडियो और उसके बाद खुद का एप बनाकर छात्रों को ऑनलाइन पढ़ाया। हमारे स्टाफ में काफी बेहतर, अनुभवी और योग्य शिक्षक है जो बच्चों पर स्पेशल ध्यान देते है। हमने ऑनलाइन और ऑफलाइन क्लासेस में काफी अच्छा काम किया है। छात्रों की समस्या के समाधान के लिए रिमोट एरिया के छात्रों को लाइव क्लास के अलावा नजदीक के इंस्टीयूट की सुविधा दे रहे हैं।

इस अवसर पर चेयरमैन जितेंद्र कोठारी, एडमिन डायरेक्टर राजेंद्र कोठारी और डायरेक्टर देवाशीष कोठारी ने कार्यक्रम में शिरकत करने आए अतिथियों का स्वागत किया।