///

मदर्स डे पर शहर करता हैं इन्हें सलाम ,बीमार बच्चे के साथ , देश की भी कर रहे सेवा

इंदौर |दुनिया में बच्चे का पहला गुरु मां को माना गया है यही कारण है कि मां को ईश्वर का दर्जा दिया गया है। वही हम आपको एक ऐसी महिला पुलिसकर्मी की कहानी बताते हैं जो न केवल मां होने का फर्ज निभा रही है बल्कि अपना कर्तव्य पूरा करने में जुटी है।

यह तस्वीरें राजवाड़ा क्षेत्र में ड्यूटी कर रही एमजी रोड थाने की प्रधान आरक्षक अनीता शर्मा की है जो न केवल लिवर की बीमारी से ग्रसित अपने बच्चे का पालन पोषण कर रही है, बल्कि पुलिस की नौकरी भी कर रही है। भीषण गर्मी में पुलिसकर्मि, नगर निगम कर्मि की मदद करने में भी जुटी है। दरअसल, शर्मा के बेटे को लीवर की बीमारी होने के कारण उन्होंने 180 दिन का अवकाश लिया था। लेकिन जब जनता कर्फ्यू लगा तो उन्होंने अपनी छुट्टियां रद्द करवा कर फिर अपनी ड्यूटी पर लौट आई।

80 से 100 लीटर केरी पन्ना पीला कर साथियों का रखती है ख्याल

शर्मा बताती है कि उन्हें छुट्टी रद्द न करवाने के लिए थाना प्रभारी और परिवार की ओर से भी काफी समझाइश दी गई थी। लेकिन उन्होंने अपना कर्तव्य पूरा करना उचित समझा। वही शर्मा अब ड्यूटी के दौरान रोजाना पुलिसकर्मियों और अन्य सरकारी विभाग के कर्मचारियों को कैरी पना बांटती है। दरअसल इस भीषण गर्मी और कोरोना के संकट में कैरी पना फायदेमंद रहता है। वह खुद घर पर रोजाना 80 से 100 लीटर कैरी का पना बनाती है और निगम कर्मियों और विभिन्न चेकिंग पॉइंट्स पर तैनात पुलिसकर्मियों को बंटवाती है। साथ ही खुद भी 20 लीटर केरी पना बना कर राजवाड़ा पर लेकर जाती है और वहां पर मौजूद पुलिसकर्मियों और अन्य सरकारी कर्मचारियों को वह यह वितरित करवाती है । वही शर्मा के इस कार्य की वरिष्ठ अधिकारियों ने भी सराहना की है।