//

देश में एक महीने में चरम पर होगा ओमिक्रोन, जानिए कैसा रहेगा देश का हाल

Start

Omicron: कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन पर करीबी से नजर रख रहे विशेषज्ञों ने दावा किया है कि ओमिक्रॉन जिस तेजी से फैल रहा है, उसको देखते हुए यह कहा जा सकता है कि इस महीने के आखिर तक यह अपने चरमोत्कर्ष पर पहुंच जाएगा।

दक्षिण अफ्रीका का दिया उदाहरण

सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में इस वायरस ने दस्तक दी थी इसके बाद इसने दुनिया के ज्यादातर हिस्सों को अपनी चपेट में ले लिया था। दक्षिण अफ्रीका से मिले अनुभव के आधार पर विशेषज्ञ यह दावा कर रहे हैं। उनका कहना है कि दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रॉन का संक्रमण तेजी से बढ़ा था और उसके बाद अमेरिका, ब्रिटेन और अन्य देशों ने भी इसी तरह के हालातों का सामना किया है। कुछ इसी तरह के हालात वर्तमान में देश में देखने को मिल रहे हैं। लेकिन सुकून देने वाली बात यह है कि ओमिक्रॉन इस महीने के आखिर तक जारी रहेगा और संक्रमण चरम पर पहुंच जाएगा।

रफ्तार ज्यादा, लेकिन खतरा कम

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश के अलग-अलग हिस्सों में अभी ओमिक्रॉन की संक्रमण दर अलग-अलग है। दिल्ली में जहां नए संक्रमण के मामले 84 फीसदी ओमिक्रॉन के हैं। वहीं, मुंबई में यह आंकड़ा 45 फिसदी के करीब दर्ज किया गया है। यदि देश भर की बात करें तो एनसीडीसी के आंकड़ों के अनुसार अभी 19-20 फीसदी मामले ओमिक्रॉन के हैं, लेकिन तेजी से इसकी हिस्सेदारी बढ़ रही है।

बचाव बेहतर उपाय

विशेषज्ञों का कहना है कि ओमिक्रॉन की चपेट में वे लोग ज्यादा आ सकते हैं ,जो अब तक संक्रमण से बचे हुए हैं या जिन्होंने टीका नहीं लगवाया है। हालांकि उनका यह भी कहना है कि ओमिक्रोन से डरने की जरूरत नहीं है। भले ही इसका संक्रमण तेजी से फैलता है, लेकिन इसका अटैक जानलेवा नहीं है। डेल्टा की तुलना में यह कम घातक है। इसलिए लोगों को बचाव के उपाय करने चाहिए और सतर्कता बरतना चाहिए ना कि भयभीत होना चाहिए।