Mradhubhashi
Search
Close this search box.

बगड़ी-नालछा सहित आसपास के किसानों ने खरीदी थी प्राइवेट कंपनी की दवाई, खरपतवार नहीं हुआ खत्‍म

बगड़ी-नालछा सहित आसपास के किसानों ने खरीदी थी प्राइवेट कंपनी की दवाई, खरपतवार नहीं हुआ खत्‍म

कंपनी की ठगी : बगड़ी-नालछा सहित आसपास के किसानों ने खरीदी थी प्राइवेट कंपनी की दवाई, खरपतवार नहीं हुआ खत्‍म

आशीष यादव/धार – जिले में किसानों द्वारा खरीफ फसल की बोवनी हो चुकी है। सोयाबीन खेतों में लहलहा रही है। इसके साथ ही खेतों में फसल के साथ खरपतवार भी उगने लगी है। इसे नष्‍ट करने के लिए कुछ किसान तो पारंपरिक तरीका अपना रहे है तो कुछ प्राइवेट कंपनी की दवाईयों पर निर्भर है। लेकिन यह दवाईयां खरपतवार को नुकसान पहुंचाने की बजाय किसानों को नुकसान दे रही है। बगड़ी-नालछा में बड़ेे पैमाने पर किसानों ने खरपतवार को खत्‍म करने के लिए दवाई का इस्‍तेमाल किया गया। लेकिन दवाई पूरी तरह फेल हो गई। इसकेे बाद किसान अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे है।

दरअसल सोयाबीन के खेतों में फसल अंकुरण के साथ खरपतवार भी पैदा होती है, जो बड़े पैमाने पर होती है। इसे पारंपरिक तरीके से नष्‍ट करने के लिए किसान खेतों में हल यानी ढोरों का इस्‍तेमाल होता है। जिससे खरपतवार को नष्‍ट किया जाता है। लेकिन अब किसान खरपतवार को नष्‍ट करने के लिए दवाईयों का भी इस्‍तेमाल कर रहे है। लेकिन यह दवाईयां किसानों को फायदा पहुंचाने के बजाय नुकसान दे रही है।

बगड़ी-नालछा सहित आसपास के किसानों ने खरीदी थी प्राइवेट कंपनी की दवाई, खरपतवार नहीं हुआ खत्‍म
बगड़ी-नालछा सहित आसपास के किसानों ने खरीदी थी प्राइवेट कंपनी की दवाई, खरपतवार नहीं हुआ खत्‍म
बगड़ी-नालछा सहित आसपास के किसानों ने खरीदी थी प्राइवेट कंपनी की दवाई, खरपतवार नहीं हुआ खत्‍म
बगड़ी-नालछा सहित आसपास के किसानों ने खरीदी थी प्राइवेट कंपनी की दवाई, खरपतवार नहीं हुआ खत्‍म

नालछा-बगड़ी में फेल हुई दवाई : नालछा ब्‍लॉक के ग्राम गुलवा के रहने वाले राकेश जाट ने भी खेत में खरपतवार को नष्‍ट करने के लिए जापानीज कंपनी की दवाई का छिड़काव किया था। इसके लिए किसान ने 3750 रुपए खर्च किए। लेकिन इसका परिणाम कुछ भी नहीं रहा। दवाई पूरी तरह फेल हो गई। किसान जाट का कहना है कि अब मजदूरों को लगाकर खरपतवार नष्‍ट करवाते है तो वह काफी खर्चिला होगा।

विभाग ने बनाया जांच दल : इधर बड़े पैमाने पर शिकायत मिलने के बाद कृषि विभाग ने खरपतवार की जांच के लिए टीम गठित की है। साथ ही सैंपल लेकर जांच के लिए भिजवाने की बात कही जा रही है। डीडीए धार जीएस मोहनिया ने बताया कि कुछ इलाकों में दवाई फेल होने की बात सामने आई है। इसके बाद हमनें टीम बना दी है, जो सैंपल लेकर जांच करेगी। सैंपल फेल होते है तो डीलर और कंपनी दोनों पर कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें...
क्रिकेट लाइव स्कोर
स्टॉक मार्केट