//

पुराने अवतार में लौटा नगर निगम, जर्जर भवनों का कर रहा सफाया

इंदौर। नगर निगम ने एक बार फिर मैदान संभाल लिया है और जर्जर मकानों को ध्वस्त करने का कार्य शुरु कर दिया है। बारिश के दौरान क्षतिग्रस्त और जर्जर मकानों से हादसा होने की आशंका है, ऐसे में उन सभी मकानों को चिह्नित कर नगर निगम ने सूची तैयार कर अपनी कार्रवाई शुरु कर दी है।

बता दें कि नगर निगम की टीम ने गुरुवार काे अतिखतरनाक मकानाें काे जमींदाेज करने की कार्रवाई शुरू की। टीम सुबह जेसीबी मशीन और बुलडोजर लेकर पहुंची और 4 जर्जर मकानों को ध्वस्त कर दिया। ये सभी मकान ऐसी हालत में थे कि कभी भी गिर सकते थे। इनमें से कुछ मकान के हिस्से तो हवा में लटकने लगे थे। टीम ने सबसे पहले पालसी मोहल्ले में कार्रवाई को अंजाम दिया। इसके बाद सिलावटपुरा और लोहार पट्‌टी में मकानों को गिराया। इस पूरी कार्रवाई के दौरान पुलिस बल मौके पर मौजूद रहा।

टीम ने मकान को गिराने के लिए पहले ही नोटिस चस्पा कर दिए थे

निगम लंबे समय से जर्जर मकानों पर कार्रवाई की बात कहता आ रहा था। हालांकि बारिश का सीजन आने के बाद भी कार्रवाई शुरू नहीं की जा रही थी। इस बात को लेकर लगातार सवाल उठ रहे थे। बारिश की झड़ी लगने पर हादसे का भी डर बना हुआ था। हालांकि गुरुवार सुबह से टीम ने मैदान संभाल लिया और जर्जर मकानों को तोड़ने का काम शुरू किया। निगम ने जर्जर मकानों को तोड़ने की कार्रवाई सुबह पारसी मोहल्ले से शुरू की। सुबह साढ़े 8 बजे उपायुक्त लता अग्रवाल टीम और जेसीबी लेकर मौके पर पहुंची। टीम ने मकान को गिराने के लिए पहले ही नोटिस चस्पा कर दिए थे, जिस कारण सुबह यह मकान पूरी तरह से खाली मिला। इस पर टीम ने जेसीबी की मदद से मो. अकील पिता फजल खान के मकान को गिरा दिया।

अपने मकान को खुद ही तोड़ने की बात कही।

इसके बाद निगम की टीम सिलावटपुरा पहुंची। यहां पर भी नोटिस के साथ कागजी कार्रवाई पहले ही टीम ने पूरी कर ली थी। ऐसे में टीम मौके पर पहुंचते ही रिया पिता रत्नेश के मकान को जमींदोज करने में जुट गई। यहां से टीम लोहार पट्‌टी पहुंची और संजय और कमल के मकान को जमींदोज करने की कार्रवाई काे अंजाम दिया। ये दोनों ही मकान बहुत बुरी हालत में पहुंच चुके थे। इन्होंने अपने मकान को खुद ही तोड़ने की बात कही, लेकिन निगम ने पहुंचकर कार्रवाई की। कार्रवाई को अंजाम देने के बाद अधिकारियों का कहना था कि अब लगातार यह कार्रवाई जारी रहेगी। हमने पहले ही 20 से ज्यादा अति खरतनाक मकानों को चिन्हित कर लिया है। इन मकानों को पोकलेन और जेसीबी मशीन की मदद से जमींदोज किया जाएगा। मकानों को गिराने के पहले सभी को नोटिस देकर सूचना दे दी गई है।