///

MDH ग्रुप के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का 98 साल की उम्र में निधन

पिछले दिनों महाशय गुलाटी ने कोरोना से जीती थी जंग।

नई दिल्ली। मशहूर मसाला कंपनी महाशिया दी हट्टी (MDH) के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का 98 साल की उम्र में निधन हो गया. गुरूवार सुबह 5.38 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली. गुरुवार को दोपहर दो बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. गुलाटी कोरोना से संक्रमित होने के बाद कुछ समय पहले स्वस्थ हुए थे। पिछले कुछ दिनों से माता चन्नन देवी हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सहित देश की कई हस्तियों ने उनको श्रद्धांजलि अर्पित की है।

1937 में रखा था कारोबार की दुनिया में कदम

महाशय धर्मपाल का जन्म 27 मार्च, 1923 को सियालकोट ( पाकिस्तान ) में हुआ था. 1933 में, उन्होंने 5वीं की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी. इसके बाद 1937 में अपने पिता की सहायता से कारोबार की दुनिया में कदम रखा। कुछ समय बाद व्यापार का विस्तार करते हुए साबुन, बढ़ई, कपड़ा, हार्डवेयर, चावल का व्यापार शुरू किया.

देश विभाजन के बाद दिल्ली में चलाया था तांगा

उनके पिता की ‘महेशियां दी हट्टी’ के नाम की दुकान थी, जहां से उन्होंने कारोबार शुरू किया था. इसको देगी मिर्थ वाले के नाम से पहचाना जाता था. भारत-पाकिस्तान विभाजन के बाद वे दिल्ली आ गए और उस वक्त उनके पास केवल 1500 रुपये थे. इन पैसों में से 650 रुपए का तांगा खरीदा और जीवन-यापन के लिए दिल्ली रेलवे स्टेशन से कुतुब रोड के बीच तांगा चलाने लगे.

कुछ समय बाद अपने भाई को तांगा देकर करोलबाग की अजमल खां रोड पर मसाले की दुकान खोली। इस तरह से उन्होंने मसाले की छोटी सी दुकान से एमडीएच जैसा विशाल कारोबार शुरू किया। कारोबार के साथ उन्होंने समाजसेवा में भी काफी नाम कमाया और समाज को स्कूल, कॉलेज से लेकर अस्पताल की सौगात दी।