/

मेंढक की शादी का जमकर मना जश्न, 1000 लोगों को दी दावत

Start

रायगढ़। यह आम बात है की इंसानी शादियों में दिल खोलकर खर्च किया जाता है और उसका लुत्फ भी खूब उठाया जाता है, लेकिन छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में हुई एक शादी इन दिनों चर्चा में बनी हुई है। बेहतर बारिश की कामना के लिए यहां पर एक गांव के लोगों ने मेंढक-मेंढकी की शादी की और 1000 लोगों ने उस शादी की दावत का लुत्फ उठाया।

मेंढक-मेंढकी का हुआ ब्याह

दरअसल छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में लैलूगां के बेस्कीमुडा गांव में 11 सितंबर को मेंढक-मेंढकी का ब्याह धूमधाम के साथ संपन्न हुआ। विवाह सन्तन संस्कृति के साथ संपन्न हुआ। विवाह की खास बात यह थी कि इसमें करीब वर-वधु पक्ष के 1000 से अधिक लोग शामिल हुए। बारात भी निकली और जमकर नाच-गाना भी हुआ। मंत्रोचार के साथ पंडित ने विवाह कार्यक्रम संपन्न कराया। इलाके में यह मान्यता है कि मेंढक-मेंढकी का विवाह संपन्न करवाने से अच्छी बारिश होती है। फिलहाल यहां लोग बेहतर बारिश की बाट जोह रहे हैं इसलिए उन्होंने इस पंरपरा को निभाया।

बेस्कीमुडा गांव से आई बारात

इस विवाह के लिए बाकयदा कार्ड भी छपवाए गए थे। शादी में शिरकत करने आए इलाके के भाजयुमो नेता कृष्णा जायसवाल ने बताया कि दूल्हे मेंढक पक्ष से सोनाजोरी गांव के पूरे ग्रामीण बाराती बनकर गाजे बाजे के साथ नाचते गाते बेस्कीमुडा में आयोजित शादी के मंडप में पधारे थे। वहां दुल्हन पक्ष मेंढकी के गांव बेस्कीमुडा के ग्रामीणों ने दूल्हा पक्ष के आए बारातियों का जोरदार स्वागत किया। अब गांववालों को उम्मीद है कि इस विवाह समारोह को करने के बाद इलाके में बेहतर बारिश होगी। यह अनोखी साधी अब इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई है।