///

Mahashivratri 2021: महाकाल में लगा श्रद्धालुओं का जमघट, ऐसी रहेगी दर्शनों की व्यवस्था

Start

Mahashivratri 2021: देश भर में महाशिवरात्रि की धूम है। महाशिवरात्रि पर्व के अवसर पर गुरूवार को उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में तड़के तीन बजे विशेष पंचामृत अभिषेक और भस्मारती पूजन किया गया। बाबा के दर्शन के लिए देश के कोने कोने से श्रद्धालु महाकाल मंदिर में पहुंच रहे है।

महाशिवरात्रि पर भस्मारती

शिवरात्रि पर बाबा महाकाल के दर्शन के लिए मन्दिर समिति ने 25 हजार श्रद्धालुओं को ऑनलाईन अनुमति प्रदान की है। अल सुबह 3 बजे बाबा महाकाल की भस्मार्ती की गई, इससे पहले बाबा को पंचामृत अर्थात दूध, दही, घी, शकर व शहद से नहलाया गया। उसके बाद चंदन का लेपन कर सुगन्धित द्रव्य चढ़ाए गए। महाकाल को भांग से भी श्रंगारित किया गया, इसके पश्चात बाबा को श्वेत वस्त्र समर्पित किया गया और फिर प्रारंभ हुई बाबा को भस्म रमाने की प्रक्रिया। भस्मिभूत होने के बाद झांझ-मंजीरे, ढोल-नगाड़े व शंखनाद के साथ बाबा की भस्मार्ती की गई।

भस्मारती के बाद श्रद्धालुओं को मिला प्रवेश

कोरोना संक्रमण के कारण उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में श्रद्धालुओ को भस्मारती में प्रवेश नहीं दिया गया। भस्मारती संम्पन होने के बाद बाबा के दर्शन के लिए श्रद्धालुओ को प्रवेश दिया गया।