/

Mahakaleshwar Temple Reopen: श्रद्धालुओं के लिए खोला गया महाकाल मंदिर

उज्जैन। कोविड की दूसरी लहर के ठंडी पड़ने के साथ ही 79 दिन बाद बाबा महाकाल, हरसिद्धी एवं मंगलनाथ मंदिर आम श्रद्धालुओं के लिए सोमवार से खुल दिए गये हैं। महाकाल मंदिर में प्री-बुकिंग के चलते सीमित संख्या में ही लोगों को प्रवेश मिल रहा है, जबकि हरसिद्धी मंदिर में जरूर लोगों ने सुविधानुसार दर्शन किए।

कोविड की दूसरी लहर के कारण उज्जैन शहर के सारे मंदिर 9 अप्रैल को बंद कर दिए गए थे। अनलॉक के साथ ही मंदिरों को खोलने का क्रम शुरू हुआ था। 15 जून को महाकाल, हरसिद्धी एवं मंगलनाथ मंदिर को छोड़कर शेष मंदिर में दर्शन शुरू कर दिए गए थे। कोविड प्रोटोकॉल के तहत सोमवार से इन तीनों ही मंदिरों में प्रवेश शुरू हुआ। इस मौके पर कैबिनेट मंत्री मोहन यादव और सांसद अनिल फिरोजिया ने महाकाल मंदिर में मत्था टेककर दर्शन की शुरुआत की। मंदिर में बैरिकेडिंग से ही श्रद्धालुओं को दर्शन कराए गए। फिलहाल नंदी एवं गर्भगृह में आम आदमी को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। पहले दिन 3500 लोगों को दर्शन कराने का टारगेट रखा गया है।

हर दिन सुबह 6 बजे से शाम 8 बजे तक आएंगे श्रद्धालु

हर दिन सुबह छह बजे से शाम आठ बजे तक 3,500 श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा। इसके लिए दो-दो घंटे के सात स्लॉट बनाये गये हैं और एक स्लॉट में केवल 500 लोगों को प्रवेश की अनुमति होगी। कोविड-19 महामारी के शुरू होने से पहले प्रतिदिन करीब 20 हजार लोग इस मंदिर के दर्शन करने आया करते थे। बता दें कि मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से करीब 175 किलोमीटर की दूरी पर धार्मिक नगरी उज्जैन में स्थित महाकालेश्वर मंदिर, भगवान शिव के देश के 12 ज्योर्तिलिंगों में से एक है।