///

डबल मर्डर का खुलासा, बंदिशों से थी परेशान इसलिए माता-पिता को हटाया रास्ते से

बेटी ही निकली माता-पिता की क़ातिल।

इंदौर। रुक्मणि नगर में हुए डबल मर्डर का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस के अनुसार मृतक की बेटी ने ही अपने प्रेमी के साथ मिलकर इस हत्या को अंजाम दिया था। दोनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

रुक्मणि नगर में रहने वाले एसएएफ के ड्राइवर ज्योति प्रसाद शर्मा और उनकी पत्नी की हत्या करने वाले दोनों आरोपी देर रात पुलिस गिरफ्त में आ गए। हत्या के बाद पुलिसकर्मी की बेटी अपने प्रेमी डीजे के साथ बाइक से रतलाम-मंदसौर के रास्ते राजस्थान भागने की फिराक में थी। इंदौर पुलिस ने आरोपियों की तलाश के लिए 5 टीमें गठित की थी। साथ ही साइबर सेल भी एक्टिव था। यही वजह रही कि 12 घंटे के भीतर ही आरोपी गिरफ्त में आ गए। बताया जा रहा है कि उनके पास से कुछ कपड़े और करीब एक लाख रुपए मिले हैं। दरअसल दो दिन पहले पिता ने बेटी और उसके प्रेमी को पकड़कर किसी बात पर थप्पड़ मार दिया था, जिस पर प्रेमी बोला था की तुम्हे देख लूंगा। इस घटना के बाद ही माता-पिता की ह्त्या को दोनों ने मिलकर अंजाम दिया।

रतलाम के रास्ते राजस्थान भागने की थे फिराक में

पूरी प्लानिंग के तहत हत्या के बाद बेटी और उसका प्रेमी धनजय उर्फ़ डीजे बाइक से रतलाम के रास्ते राजस्थान भागने की फिराक में थे। उन्होंने अपना मोबाइल बंद कर रखा था। हालांकि बीच रास्ते में शाम करीब 4 बजे प्रेमी ने अपना मोबाइल ऑन किया तो साइबर सेल को इनकी लोकेशन का पता चल गया। उन्होंने तत्काल रतलाम पुलिस को फोटो भेजकर एक्टिव कर दिया। इसके बाद एक टीम भी इसी रास्ते पर रवाना हो गई। पकड़ने के बाद पुलिस दोनों को लेकर इंदौर के लिए रवाना हो गई।

प्रेमी को थप्पड़ मारना बना हत्या की वजह

आरोपियों के गिरफ्त में आते ही देर रात आलाधिकारी उनसे पूछताछ के लिए थाने पहुंचे। बताया जा रहा है कि दोनों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। मृतक की बेटी को डीजे से न मिलने देना और हाल ही में दोनों को थप्पड़ मारना ही हत्या की वजह रही। पुलिस ने आरोपियों से हत्या की प्लानिंग के बारे में पूछताछ की तो पता चला है कि जिस लेटर के जरिए बेटी ने पिता पर गंभीर आरोप लगाए थे। वह लेटर हत्या के बाद लिखा गया था। लड़की ने ऐसा प्रेमी के कहने पर किया। पुलिस को लेटर मिलने के साथ ही इस बात का शक हो गया था कि लेटर केस को गुमराह करने के लिए लिखा गया है। इसलिए पुलिस ने शुरू से ही इस बात को फर्जी बताया था।

पहले बना ली थी हत्या की योजना

दोनों ने ह्त्या की प्लानिंग पहले की कर ली थी। और रात में जब भाई दादा के कमरे में सोने गया तो बेटी ने प्रेमी को एक्टिव कर दिया। इनकी लगातार फोन के जरिए चैटिंग होती रही। सुबह प्रेमी को बुलाने के साथ ही बेटी कुत्ते को लेकर बाहर निकल गई और इसी दौरान प्रेमी घर के भीतर घुस गया। प्रेमी के भीतर जाते ही बेटी ने कुत्ते को गेट पर बांधा और भीतर चली गई। इसके बाद इन्होंने पहले मां का मुंह दबाया और हत्या कर दी। आवाज सुन गहरी नींद में सो रहे पिता की आंख खुली तो डीजे ने उन पर भी हमला कर दिया। चिल्लाने की आवाज होने पर बात को मैनेज करने के लिए बेटी दौड़कर बाहर आई और कुत्ते को लेकर गेट के सामने ही लेकर टहलने लगी। इस दौरान बाहर आए पड़ोसियों ने चिल्लाने का कारण पूछा तो बेटी ने कह दिया माँ पिता दोनों लड़ रहे हैं। हत्या करने के बाद डीजे का इशारा पाते ही बेटी भीतर गई और उसके बाद दोनों वहां से भाग निकले।

दो पहिया वाहन से प्रेमी के साथ घर से रवाना हुई

मां-बाप को मारने के बाद बेटी अपने प्रेमी के साथ दो पहिया वाहन से घर से रवाना हो गई। जाते-जाते उसने कुछ कपड़े और रुपए भी रख लिए थे। बताया जा रहा है कि पकड़ में आए दोनों आरोपियों के पास से पुलिस को करीब एक लाख रुपए से ज्यादा मिले हैं। पुलिस ने घटना को रिवाइज किया तो यह बात पुख्ता हो गई कि इन्होंने पहले मां को मारा था। क्‍योंकि घटना में जहां पुलिस को एक शव पलंग पर और दूसरा जमीन पर पड़ा हुआ मिला था।