////

इंदौर के दोहरे हत्याकांड का हुआ खुलासा, इस वजह से की गई थी हत्या

Start

इंदौर: इंदौर पुलिस ने दोहरे हत्याकांड का 36 घंटो में खुलासा करते हुए 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने पुरानी रंजिश के चलते योजनाबद्ध तरीके से मृतक को बुलाकर चाकुओं से गोदकर वारदात को अंजाम दिया था। चारों ही आरोपी आपराधिक प्रवुति के हैं और शहर के कई थानों में उनके खिलाफ दर्जनों आपराधिक मामले दर्ज है।

36 घंटो में हुआ पर्दाफाश

इंदौर की बाणगंगा पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। दो दिन पहले हुए दोहरे हत्याकांड का 36 घंटो में पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने पुरानी रंजिश के चलते हत्यकांड को अंजाम दिया था। घटना 24 मार्च रात बाणगंगा थाना क्षेत्र के करोल बाग की है, जहां पुलिस को अर्पित खटे और गौरव की खून से सनी लाश मिली थी। शरीर पर चाकुओं के कई निशान थे, पुलिस ने जांच कर हत्या की पुष्टि होने पर अज्ञात आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया था।

मृतकों पर भी थे आपराधिक मामले दर्ज

पुलिस के लिए यह बड़ी चुनौती थी, पहले दोनों की शिनाख्त की तो पता चला की मृतकों के नाम अर्पित खटे और गौरव मिश्रा है। टीम ने जब मृतकों के बारे में पूछताछ की तो पता चला की दोनों के खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज है, उसके बाद पुलिस टीम ने दोनों मृतकों की लिंक निकली और फिर मंगेश नमक युवक को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो उसने जुर्म कबूला और अपने तीन सथियों के साथ वारदात को करना कबुल किया। पुलिस ने आरोपी मंगेश की निशानदेही पर तीनों आरोपी विष्णु सूरज और राहुल उर्फ मोगली को उज्जैन से घेराबंदी कर गिरफ्तार किया।

रंजिश के चलते हुआ हत्याकांड

आरोपियों को इंदौर लाकर पूछताछ की तो उन्होंने पुरानी रंजिश के चलते हत्याकांड को अंजाम देना बताया है। आरोपियों ने बतया की एक महीने पहले दोनों मृतकों से किसी बात को लेकर विवाद हुआ था तभी से आरोपी दोनों को मारने की फिराक में घूम रहे थे। इसमें मृतक और आरोपी दोनों के ही आपराधिक रिकार्ड है और सभी की उम्र भी 20 से 22 वर्ष की है। फिलहाल अब पुलिस ये पता लगा रही है की इस घटना इनके और कितने साथी शामिल थे।