////

इंदौर की दंपती बने वॉलेंटियर, लगाया कोरोना का वैक्सीन

कोरोना का जल्द होगा खात्मा इंदौर की दंपती बने वैक्सीन के लिए वॉलेंटियर ।

इंदौर। कोरोना वैक्सीन का इंतजार कर रहे शहर के लिए अच्छी खबर है। भोपाल में चल रहे भारत बॉयोटेक और आईसीएमआर की कोवैक्सीन के ट्रायल में इंदौर का पहला टीका एक दंपती को लगाया गया। अकेले महीने दोनों को वैक्सीन का दूसरा डोज दिया जाएगा। बतौर वॉलेंटियर वैक्सीन ट्रायल में शामिल होने को लेकर दोनों काफी खुश हैं।

भारत बॉयोटेक और आईसीएमआर द्वारा विकसित है वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन को लेकर देश में ट्रायल तीसरे फेज में चल रहा है। उम्मीद है कि अगले महीने तक आम जनता तक इसकी पहुंच हो जाएगी। भोपाल में भी एक वैक्सीन का तीसरे फेज का ट्रायल चल रहा है। इसी ट्रायल में इंदौर की एक दंपती को भारत बॉयोटेक और आईसीएमआर द्वारा विकसित की जा रही कोवैक्सीन का डोज लगाया गया। फिलहाल दोनों के स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है।

बतौर वॉलेंटियर वैक्सीन ट्रायल में शामिल होने के बाद इंदौर के दवा व्यापारी मनोज राय और उनकी पत्नी पूजा काफी खुश हैं। वैक्सीन का पहला डोज लेने के बाद मनोज ने बताया कि मुझे भोपाल में कोरोना की वैक्सीन के ट्रायल के बारे में पता चला था। मैंने महीने भर पहले ही रजिस्ट्रेशन कराया था और एक दिन पहले ही वैक्सीन का डोज लगाने के लिए मुझे भोपाल बुलाया गया था। वैक्सीन लगाने से पहले मेडिकल टेस्ट हुए और उसकी रिपोर्ट आने के बाद ही डॉक्टरों ने वैक्सीन लगाई।

डॉक्टरों ने दी एहतियात बरतने की सलाह

मनोज के साथ उनकी पत्नी पूजा भी बतौर वॉलेंटियर वैक्सीन के ट्रायल में शामिल हुईं। उन्होंने बताया कि पहले हमारा कोरोना का टेस्ट कराया गया और उसकी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद वैक्सीन का डोज दिया गया। डॉक्टरों ने हमें कुछ एहतियात बरतने के लिए कहा है। वैक्सीन का शरीर पर क्या असर हो रहा है, यह जानने के लिए डॉक्टरों ने हमें डायरी में अनुभव लिखने के लिए भी कहा है।

देश में ज्यादातर कंपनियों के कोरोना वैक्सीन का ट्रायल आखिरी दौर में है। ऐसे में यह उम्मीद की जा सकती है नए साल पर लोगों को कोरोना से निजात मिल जाएगी।