////

इंदौर शहर कांग्रेस अध्यक्ष का वीडियो हुआ वायरल, सियासत में मचा बवाल

शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल के वीडियो की शहर काजी ने आलोचना की है।

इंदौर। इंदौर में कांग्रेसियों द्वारा पार्षद उम्मीदवारों को कुरआन की कसम खिलाने का एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। वीडियो वायरल होते ही राजनीति के गलियारों घमासान मच गया है, जहां एक और मुस्लिम समाज के रहनुमा इससे नाराज बताये जा रहे है वही भाजपा भी इसकी आलोचना कर रही है।

पार्षद पद के उम्मीदवारों को खिलवाई कुरान की कसम

कहते है सियासत में कसमें वादे चलते नहीं है लेकिन छोड़ा भी नहीं जाता है, इसकी एक बानगी चंदन नगर में दिखने को मिली है यहां कांग्रेसी जलसा था और उसमें कांग्रेस के पार्षद पद के उम्मीदवारों को शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने कुरान की कसम खिलवाई, जिसका वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो से जहां एक ओर धर्म विशेष के लोगों ने नाराजगी जताई है वही महजबी रहनुमा भी इससे काफी नाराज नजर आ रहे है।

चंदन नगर इलाके का है वीडियो

वायरल वीडियो चंदन नगर इलाके में हुए कांग्रेस कार्यक्रम का है जहां पार्षद पद के उम्मदवारों को विनय बाकलीवाल ने कुरान की कसम खिलाकर कहा की जिसे भी टिकिट मिलेगा सबको उसकी मदद करना है, साथ बाकलीवाल ने दोहराते हुए कहा की कुरान की कसम खाइये जिसे टिकिट मिलेगा सब उसकी मदद करेंगे। मामला गरमाते ही अब कांग्रेस के शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल का कहना है कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने के लिए वीडियो को काट छांट कर वायरल किया गया है और में इसलिये घोर निंदा करता हुं और इस मामले की पुलिस जांच की मांग करूंगा।

राजनीति के गलियारों में हलचल हुई तेज

वीडियो वायरल होने पर राजनीति के गलियारों में हलचल तेज हो गई है और भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा की कुरान कि कसम खिलवाने के पीछे की हकीकत ये है की बाकलीवाल और शुक्ला को पूरा यकीन है की कांग्रेस पार्टी से जुड़ा मुसलमान है वो गद्दार है धोखेबाज है और कांग्रेस पार्टी की पीठ में छुरा घोपेगा और कांग्रेस पार्टी इसी डर की वजह से बाकलीवाल को कांग्रेस पार्टी से जुड़े मुसलमानो को कुरान की कसम खिलवा रहे है।

शहर काजी ने की निंदा

वही पूरे मामले में इंदौर शहर काजी इशरत अली ने नाराजगी जताते हुए कहा की राजनीती में किसी धर्म को लाना गलत है मैं इसकी निंदा करता हुं, क्योंकि मजहब पाक होता है सियासत में मजहब को दूर रखना चाहिए। बहरहाल वायरल वीडियो से एक बात तो साफ हैं जहां बीजेपी पर धर्म की राजनीति करने का आरोप लगता रहा है तो वहीं दूसरी ओर इस वायरल वीडियो को देखकर कांग्रेस के लिए भी यह कहा जाए तो गलत नहीं होगा।