/

Independence Day 2021: मोदी सरकार नेताजी सुभाष, हिंदू महासभा जैसे 146 गुमनाम नायकों और संस्थाओं का करेगी सम्मान

Start

Independence Day 2021: 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मोदी सरकार आजादी के ‘गुमनाम’ नायकों को सम्मानित करगी। इस मौके पर उन महापुरुषों का सम्मान किया जाएगा, जिन्होंने देश के लिए बड़ी कुर्बानियां दी, लेकिन आजादी के बाद उनको भुला दिया गया। भारत सरकार आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में गुमनाम नायकों के जीवन से जुड़ी घटनाओं को तवज्जो देने की योजना बना रही है। इसके तहत कई कार्यक्रम और सेमीनार आयोजित किए जाएंगे।

146 गुमनाम नायकों की सूची है तैयार

केंद्र की मोदी सरकार ने 146 गुमनाम नायकों और समूहों की एक सूची तैयार की है। आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में सरकार ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के नाम से एक कार्यक्रम का आयोजन करने जा रही है। इसके बैनर तले 75 क्षेत्रीय, छह राष्ट्रीय और दो अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों (सेमिनार) की योजना बनाई गई है। इन सभी नामों को अलग-अलग सरकारी विभागों और केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वायत्त निकाय भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान परिषद (आईसीएचआर) द्वारा संकलित किया गया है।

इतिहासकार कर रहे हैं आलोचना

सरकार की इस सूची में जनसंघ के विचारक नानाजी देशमुख और हिंदू महासभा भी शामिल हैं। वहीं कुछ कतिपय इतिहासकारों ने इस लिस्ट में सुभाष चंद्र बोस, बिरसा मुंडा और तात्या टोपे जैसी प्रसिद्ध हस्तियों की उपस्थिति की आलोचना कर रहे हैं और सरकार से इस सूची में सुधार की अपील कर रहे हैं। आईसीएचआर के डायरेक्टर ओम जी उपाध्यान के मुताबिक आईसीएचआर ने हमारे गुमनाम नायकों के जीवन और उनके योगदान का जश्न मनाने के लिए एक त्रि-स्तरीय कार्यक्रम की योजना बनाई है, क्योंकि इतिहास में इन गुमनाम नायकों के योगदान का कभी जिक्र नहीं किया गया.