/

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए सीएम ने अधिकारियों को दिए सख्त निर्देश

Start

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संकट को देखते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राजधानी भोपाल के सीएम हाउस से प्रदेश भर की क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक ले रहे हैं। इस बैठक में सभी मंत्री, विधायक सहित कलेक्टर-अधिकारी को शामिल किया गया है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस बैठक में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद हैं।

मध्यप्रदेश में बेकाबू हुई कोरोना संक्रमण की रफ्तार के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक ले रहे हैं जिसमें उन्होंने कहा कि कोविड के 3.3 प्रतिशत मरीज ही एडमिट हैं, चिंता नहीं करना है लेकिन असावधान भी नहीं होना है, व्यवस्थाएं बेहतर बनाकर रखें। इस लहर में सबसे जरूरी है होम आइसोलेशन।

चाक-चौबंद और व्यवस्थाएं दुरुस्त रखें

होम आइसोलेशन में सावधानी के प्रति जागरूकता फैलायें। सीएम शिवराज ने प्रदेश में टीकाकरण की स्थिति की जानकारी ली। सीएम शिवराज ने कहा कि वैक्सीनेशन के कार्य में लापरवाही बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी। घर-घर दस्तक दें, टीकाकरण का कार्य पूर्ण हो। वैक्सीन ही कोविड से सुरक्षा का मजबूत कवच है। सीएम शिवराज ने कहा कि कोविड की तीसरी लहर से मुकाबले की तैयारी चाक-चौबंद और व्यवस्थाएं दुरुस्त रखें। टीकाकरण का कार्य निरंतर जारी रहे। बैठक में सीएम शिवराज ने इंदौर में निजी तौर पर अधिक टेस्ट की जानकारी मिलने पर निर्देश देते हुए कहा कि यदि प्रायवेट रूप से टेस्ट हों तो उन्हें भी रिकॉर्ड में लिया जाए।

सीएम शिवराज कोरोना केसों के आकलन की समीक्षा बैठक कर रहे हैं। इसके साथ ही साथ भोपाल और ग्वालियर के कलेक्टर सहित अन्य से टेस्टिंग दवाई सहित प्रतिबंधों पर चर्चा कर रहे हैं।