//

गैर अधिमान्य पत्रकार को मिले फ्रंटलाइन वर्कर की उपाधि , हाथों में काली पट्टी बांध कर किया प्रदर्शन

इंदौर । मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा पिछले दिनों अधिमान्य पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर घोषित किया गया था जिसके बाद से प्रदेश में गैर अधिमान्य पत्रकारों द्वारा उन्हें भी फ्रंटलाइन वर्कर घोषित करने की मांग को लेकर आज प्रदेश के कई जिलों में पत्रकारो द्वारा अपने हक की लड़ाई को लेकर हाथों में काली पट्टी बांध कर प्रदर्शन किया गया।

आयुष्मान कार्ड सहित अन्य सुविधाएं भी पत्रकारों को उपलब्ध कराई जाए

प्रदेश में पत्रकार अपने हक की लड़ाई के लिए लगातार लामबंद होता हुआ नजर आ रहा है। पिछले दिनों जिस तरह से पत्रकारों को 2 धड़ो में बांटकर सरकार द्वारा कोतुहल का विषय बनाया गया वह क निंदनीय है। बता दे की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा अधिमान्य पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर घोषित करने के बाद गैर अधिमान्य पत्रकार व अधिमान्य पत्रकारों द्वारा एक साथ मिलकर हाथों में काली पट्टी बांधते हुए पूरे प्रदेश में अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया गया पत्रकारों की मांग है कि सभी पत्रकार बंधुओं को फ्रंटलाइन वर्कर की उपाधि दी जाए और आयुष्मान कार्ड सहित अन्य सुविधाएं भी पत्रकारों को उपलब्ध कराई जाए क्योंकि पत्रकार समाज का चौथा स्तंभ है और यदि पत्रकार को कुछ होता है तो समाज को काफी हानि पहुंचती है इन्हीं सभी मांगों को लेकर पत्रकारों ने कोविड-19 पालन करते हुए अपनी मांगों को लेकर आवाज उठाई है ।