//

मूंग समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा तो स्थानीय किसान भी होंगे आकर्षित ,पूर्व जिला अध्यक्ष ने कृषि मंत्री को लिखा पत्र

बुरहानपुर। बुरहानपुर जिले में जायद फसल का रकबा लगभग 22 से 25 हजार हेक्टर में होता है। किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग की प्रसार गतिविधियों के माध्यम से गन्ना और केला फसल में अंतरवर्ती फसल के रूप में मूंग, प्याज, धनिया को बढ़ावा दिया जा रहा है। इस वर्ष मूंग फसल लगभग 550 हेक्टर में बोई गई है। शासन द्वारा समर्थन मूल्य पर पंजीयन प्रारम्भ किया जा रहा है। भविष्य में जिले के किसानों को जायद फसल मूंग लेने के लिए प्रोत्साहन प्राप्त होते रहने के लिये जिले को समर्थन मूल्य पर मूंग खरीदी में सम्मिलित कराया जाए। यह बात भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य एवं पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष ज्ञानेश्वर पाटिल ने प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल को लिखे पत्र में कही। उन्होंने कहा कि जिले का किसान मूंग फसल के लिए इसलिए आकर्षित नहीं होता, क्योंकि स्थानीय स्तर पर यह फसल समर्थन मूल्य पर नहीं खरीदी जाती। जबकि हरदा, होशंगाबाद सहित अन्य कुछ जिलों में किसान मूंग की सर्वाधिक फसल लगाते हैं और बंपर आवक भी होती है। जिसे प्रदेश सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर खरीदा जाता है।

कृषि विभाग के माध्यम से कराया जाए प्रचार प्रसार

भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य श्री पाटिल ने मांग की कि कृषि विभाग को प्रदेश सरकार निर्देशित करे कि बुरहानपुर जिले में भी मूंग की फसल लगाने के प्रति किसानों को प्रेरित किया जाए। अभी यहां केला, गन्ना फसलें सर्वाधिक लगाई जाती है। अब मूंग के प्रति भी जागरूकता पैदा करना चाहिए और सरकार को इसे समर्थन मूल्य पर खरीदना चाहिए।