//

जून में जीएसटी संग्रह रहा एक लाख करोड़ से नीचे, जीपीएफ की ब्याज दरों में भी नहीं हुई बढ़ोतरी

Start

नई दिल्ली। सरकार का माल एवं सेवा (जीएसटी) संग्रह जून 2021 में 92,849 लाख करोड़ रुपए रहा है। आठ महीनों बाद जीएसटी संग्रह एक लाख करोड़ से नीचे आया है। वित्त मंत्रालय ने बताया कि जीएसटी संग्रह के इन आंकड़ों में पांच जून से पांच जुलाई के दौरान हुए घरेलू लेनदेन के आंकड़े भी शामिल हैं। कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए सरकार ने जीएसटी करदाताओं को कई तरह की राहत दी थी। मई में जीएसटी संग्रह 1.02 लाख करोड़ रुपये रहा था। यह लगातार आठवां महीना था जबकि जीएसटी संग्रह का आंकड़ा एक लाख करोड़ रुपए से अधिक रहा था।

जीपीएफ की ब्याज दरों में नहीं हुई बढ़ोतरी

केंद्र सरकार के कर्मियों का डीए यानी महंगाई भत्ता 18 माह से बंद है, अब सामान्य भविष्य निधि यानी जीपीएफ की राशि पर मिलने वाले ब्याज की दरें भी नहीं बढ़ाई गईं। जीपीएफ के दायरे में आने वाले कर्मियों को उम्मीद थी कि इस बार ब्याज दरों में बढ़ोतरी की जाएगी। वित्त मंत्रालय में आर्थिक कार्य विभाग बजट डिवीजन द्वारा जारी संकल्प में कहा गया है कि ब्याज दर एक जुलाई 2021 से लेकर सितंबर 2021 तक 7.1 फीसदी रहेगी। यह दर एक जुलाई 2021 से लागू होगी।

जेईई मेन की तीसरे चरण की परीक्षा 20 से

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को अप्रैल और मई सत्र की जेईई मेन परीक्षाओं की नई तिथियों की घोषणा कर दी। उन्होंने ऐलान किया कि जेईई मेन के तीसरे चरण (अप्रैल) की परीक्षा 20 जुलाई से 25 जुलाई तक होगी। अगर किसी परीक्षार्थी ने इस चरण के लिए आवेदन नहीं किया है तो वह इसके लिए 6 जुलाई से 8 जुलाई तक आवेदन कर सकता है। जबकि चौथे चरण की परीक्षा 27 जुलाई से 2 अगस्त के बीच होगी। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने इस साल से जेईई मेन की परीक्षाएं चार सत्रों में आयोजित करने का ऐलान किया था।