//

Ganesh Utsav 2021: श्रीगणेश को विभिन्न पत्र इन मंत्रों के साथ करें समर्पित

Start

Ganesh Utsav 2021: गणेशोत्सव के दौरान भक्त विभिन्न तरीकों से देव आराधना कर श्रीगणेश को प्रसन्न करते हैं। गजानन को मोदक, दू्र्वा समर्पित करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। गणेशजी को विभिन्न वृक्षों के पत्ते समर्पित करने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं विभिन्न पत्रों को समर्पित करते समय किन मंत्रों का जाप करें।

1- श्रीगणेश को शमी पत्र समर्पित करते समय ‘सुमुखाय नम:’ का जाप करें।

2- श्रीगणेश को बिल्वपत्र समर्पित करते समय ‘उमापुत्राय नम:’ का जाप करें।

3- श्रीगणेश को दूर्वादल समर्पित करते समय ‘गजमुखाय नम:’ का जाप करें।

4- श्रीगणेश को बेरपत्र समर्पित करते समय ‘लम्बोदराय नम’ का जाप करें।

5- श्रीगणेश को धतूरापत्र समर्पित करते समय ‘हरसूनवे नम:’ का जाप करें।

6- श्रीगणेश को सेमपत्र समर्पित करते समय ‘वक्रतुण्डाय नम:’ का जाप करें।

7- श्रीगणेश को तेजपत्ता समर्पित करते समय ‘चतुर्होत्रे नम:’ का जाप करें।

8- श्रीगणेश को कनेरपत्र समर्पित करते समय ‘विकटाय नम:’ का जाप करें।

9- श्रीगणेश को केलपत्र समर्पित करते समय ‘हेमतुंडाय नम:’ का जाप करें।

10- श्रीगणेश को आकपत्र समर्पित करते समय ‘विनायकाय नम:’ का जाप करें।

11- श्रीगणेश को अर्जुनपत्र समर्पित करते समय ‘कपिलाय नम:’ का जाप करें।

12- श्रीगणेश को महुआपत्र समर्पित करते समय ‘भालचन्द्राय नम:’ का जाप करें।

13- श्रीगणेश को अगस्त्य वृक्षपत्र समर्पित करते समय ‘सर्वेश्वराय नम:’ का जाप करें।

14- श्रीगणेश को वनभंटा का पत्र समर्पित करते समय ‘एकदन्ताय नम:’ का जाप करें।

15- श्रीगणेश को भंगरैया का पत्र समर्पित करते समय ‘गणाधीशाय नम:’ का जाप करें।

16- श्रीगणेश को अपामार्ग का पत्र समर्पित करते समय ‘गुहाग्रजाय नम:’ का जाप करें।

17- श्रीगणेश को देवदारु का पत्र समर्पित करते समय ‘वटवे नम:’ का जाप करें।

18- श्रीगणेश को गांधारी वृक्ष का पत्र समर्पित करते समय ‘सुराग्रजाय नम:’ का जाप करें।

19- श्रीगणेश को सिंदूर वृक्ष का पत्र समर्पित करते समय ‘हेरम्बाय नम:’ का जाप करें।

20- श्रीगणेश को केतकीपत्र समर्पित करते समय ‘सिद्धिविनायकाय नम:’ का जाप करें।

21- श्रीगणेश को केतकीपत्र समर्पित करते समय ‘सिद्धिविनायकाय नम:’ का जाप करें।

पूजा का समापन करते हुए अंत में दो दूर्वादल गंध, फूल और चावल गणेशजी को समर्पित करना चाहिए।