//////

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का बड़ा आरोप महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख और सचिन वझे को लेकर कही बड़ी बात

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का बड़ा आरोप महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख और सचिन वझे को लेकर कही बड़ी बात

मुंबई। महाराष्ट्र की राजनीति में एक बड़ा भूचाल आ गया है. अब मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने गृहमंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाए हैं. पूर्व कमिश्नर ने सीएम उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने बताया है कि, महाराष्ट्र के गृहमंत्री देशमुख ने सचिन वझे से हर महीने 100 करोड़ रुपये का कलेक्शन करने को कहा था.

चिट्ठी में परमबीर ने लिखा, ‘आपको बताना चाहता हूं कि महाराष्ट्र सरकार के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन बजे को कई बार अपने आधिकारिक बंगले ज्ञानेश्वर में बुलाया और फंड कलेक्ट करने के आदेश दिए। उन्होंने यह पैसे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नाम पर जमा करने के लिए कहा। इस दौरान उनके पर्सनल सेक्रेटरी मिस्टर पलांडे भी वहां पर मौजूद रहते थे। गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन बजे को हर महीने 100 करोड़ रुपए जमा करने का टारगेट दिया था।’

परमबीर ने आगे लिखा, ‘मैंने इस मामले को लेकर डिप्टी चीफ मिनिस्टर और NCP चीफ शरद पवार को भी ब्रीफ किया है। मेरे साथ जो भी घटित हुआ या गलत हुआ इसकी जानकारी मैंने शरद पवार को भी दी है।

वझे को बताया था कहां से होगा कलेक्शन

पूर्व पुलिस कमिश्नर की इस लंबी चिट्ठी में गृहमंत्री देशमुख पर कई आरोप लगाए गए हैं. इसमें वसूली को लेकर कहा गया है कि, क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट को हेड करने वाले सचिन वझे को गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अपने घर पर बुलाया था. जहां गृहमंत्री ने उन्हें फंड कलेक्शन के निर्देश दिए. इस दौरान उनके पीए और दो अन्य स्टाफ मेंबर साथ थे

पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि, इस बातचीत के बाद सचिन वझे मेरे ऑफिस में मुझसे मिलने आए. उन्होंने मुझे पूरी बात बताई. ये सब सुनकर मैं काफी हैरान हो गया और सोचने लगा कि इसे कैसे हैंडल करूं.

‘मुख्यमंत्री से लेकर मंत्रियों तक पहुंचाई थी बात’


परमबीर सिंह ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि, मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास जो घटना हुई, उसकी जांच एटीएस और एनआईए कर रही है. सभी को मेरे और मेरे ऑफिस की तरफ से पूरी मदद दी गई थी. घटना की निष्पक्ष और स्वतंत्र जांच के लिए हम मदद कर रहे थे. लेकिन महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अपने एक इंटरव्यू में कहा कि, मेरी तरफ से और मुंबई पुलिस की तरफ से इस केस में कई गलतियां की गईं. उन्होंने इस दौरान कहा था कि मेरी गलती माफ करने के लायक नहीं है.

इस चिट्ठी में आगे परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री को लिखा है कि, “जब एंटीलिया मामले की ब्रीफिंग के लिए मैं आपके पास आया था तो भी मैंने गृहमंत्री के ऐसे कामों को लेकर इशारा किया था. इसी तरह से मैंने गृहमंत्री के कामकाज को लेकर डिप्टी सीएम, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और शरद पवार को भी बताया था. लेकिन मुझे बाद में पता चला कि कुछ मंत्री वो बात पहले से ही जानते थे, जो मैंने उन्हें बताई