///

कोरोना वॉरियर्स पर हुए लाठीचार्ज पर गर्माई राजनीति, कमलनाथ ने कार्रवाई पर उठाए सवाल

कोरोना वारियर्स अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे।

भोपाल। 3 दिन पहले हुए स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल पर लाठी चार्ज होने के बाद राजनीति गर्मा गई है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पत्र लिख कर भाजपा सरकार पर सवाल उठाएं हैं, वहीं

विधायक पी सी शर्मा ने कहा है कि कोरोना वॉरियर्स हमसे मिलने आए थी और हम यह मामला विधानसभा मे उठाएंगे, लेकिन शनिवार सुबह स्वास्थ्यकर्मी स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चैधरी से

मिलने पहुँचे थे, लेकिन मंत्री ने उनसे बात करने से मना कर दिया था।

गौरतलब है मध्यप्रदेश में कोरोना महामारी के चलते स्वास्थ्य विभाग के द्वारा अन्य विभागों से अस्थायी रूप से नर्सिंग स्टाफ लिया था। लेकिन अब उन्हें कुछ दिनों की मोहलत देकर निकाला जा रहा है जिससे नर्सिंग स्टाफ नाराज़ नज़र आ रहा है। इसी कड़ी में नर्सिग स्टॉफ से जुड़े सैकड़ो कार्यकर्ताओ ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया था।

स्वास्थ्य विभाग से जुड़े कार्यकर्ताओं के द्वारा बैनर पोस्टर के साथ प्रदर्शन किया गया था। इन स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का कहना है कि सरकार द्वारा उनकी मांगे मांगी जाए और स्वास्थ्य मंत्री उनकी ओर ध्यान दें क्योंकि उनके द्वारा कोरोनावायरस के दौरान शहर में लगातार परिवार से दूर रहकर काम किया गया था लेकिन अब उन्हें निकाला जा रहा है। उनकी प्रशासन द्वारा संविदा नियुक्ति की जाए साथ ही उन्हें कोरोनावायरस के लिए सम्मान सहित बीमा योजना राशि उपलब्ध कराई जाए। प्रदर्शन के दौरान इनके ऊपर लाठीचार्ज किया गया था।

गौरतलब है कोरोना महामारी के प्रकोप के दौरान कई स्वास्थ्य कार्यकर्ता अपनी जान पर खेलकर सेवाएं दे रहे हैं। ऐसे हालत में उनके कोरोना संक्रमित होने का खतरा काफी ज्यादा है, लेकिन इसके बावजूद वो लोगों की तिमारदारी में लगे हुए हैं। ऐसे में जब उनकी सेवाएं समाप्त की जा रही है तो उनका गुस्सा शासन पर फूट पड़ा है और वे सड़कों पर उतरकर राज्य शासन के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।