//

Euro Cup 2021: इटली ने जीता दूसरा यूरो कप, पेनल्टी शूटआउट में इंग्लैंड को 3-2 से हराया

Start

लंदन। वेम्बली स्टेडियम में इंग्लैंड और इटली के बीच चले यूरो कप के फाइनल में इटली टीम की जीत हुई है। इटली ने दूसरी बार यूरो कप का खिताब जीत लिया है। हालांकि इस जोरदार मुकाबले में इंग्लैड ने शुरुआत में ही बढ़ ले ली थी। यूरो 2020 के फाइनल में इटली की टीम ने इंग्लैंड को पेनल्टी शूटआउट 3-2 से हराया।

इंग्लैंड ने बनाई थी बढ़त

शानदार चले मैच में इंग्लैंड के ल्यूक शॉ ने यूरो फाइनल के इतिहास में सबसे तेज गोल किया। शॉ ने मैच के दूसरे मिनट में गोल किया। अगर सटीक समय की बात की जाए, तो गोल का सटीक समय 1 मिनट, 57 सेकंड था। इससे पहले 1964 में स्पेन के जीसस मारिया ने रूस के खिलाफ फाइनल में छठे मिनट में गोल दागा था। पहले हाफ तक इंग्लैंड इटली पर बढ़त बनाए थी। दूसरे हाफ तक आते आते भी इंग्लैंड को 1-0 से आगे था।

दूसरे हॉफ में इटली ने की बराबरी

इंग्लैंड के हौसले बुलंद थे, दूसरे हाफ तक इंग्लैंड इटली पर हावी रहा, लेकिन खेल के 67वें मिनट में इटली ने गोल करके मुकाबले में बराबरी कर ली। लियोनार्डो बोनुची यूरो फाइनल के इतिहास में सबसे उम्रदराज गोल करने वाले खिलाड़ी बन गए। लियोनार्डो बोनुची ने गोल कर स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया। 34 साल 71 दिन के बोनुची फाइनल में गोल करने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बने। पूरा समय हो जाने के बाद भी दोनों टीमें एक-एक की बराबरी पर रहीं।

पेनल्टी से निकला परिणाम

यूरो कप 2020 टूर्नामेंट का परिणाम पेनल्टी शूटआउट से निकला। इससे पहले 1976 में पेनल्टी ने रिजल्ट निकला था। पेनल्टी शूटआउट में इंग्लैंड की ओर हैरी कैन, हैरी मैगुओर ने गोल किए जबकि मार्कस रैशफोर्ड, जेडन सांचो और बुकायो साका गोल नहीं कर सके। वहीं इटली की ओर से डोमनिका बेरार्डी, लियोनार्डो बोनुची, फेडरिको ने गोल किया। आंद्रेई बेलोटी, जोर्गिन्हो गोल नहीं कर सके। इटली ने दूसरी बार यूरो कप का खिताब जीता है। इटली की चार विश्व कप जीत में से आखिरी सफलता 2006 में मिली थी।

55 साल बाद भी नहीं हो सका सपना पूरा

55 साल के बाद भी इंग्लैंड का ट्राफी पाने का इंतजार खत्म नहीं हो सका। आखिरी ट्राफी 1966 में जीती थी। तब से प्रशंसक ट्रॉफी का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन इंग्लैंड कुछ मौकों पर सेमीफाइनल में पहुंचा है, लेकिन फाइनल में पहुंचने में नाकाम ही रहा।

रोनाल्डो को मिला गोल्डन बूट अवॉर्ड

पुर्तगाल के स्टार स्ट्राइकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने यूरोपीय फुटबॉल चैंपियनशिप में सर्वाधिक पांच गोल करके गोल्डन बूट का पुरस्कार हासिल किया। चेक गणराज्य के फारवर्ड पैट्रिक सीक ने भी रोनाल्डो के बराबर पांच गोल किए थे, लेकिन पुर्तगाल के दिग्गज खिलाड़ी ने एक गोल करने में मदद भी की थी, जिसके कारण उन्हें यह पुरस्कार मिला। पुर्तगाल टूर्नामेंट के अंतिम-16 में बेल्जियम से 0-1 से हारकर बाहर हो गया था।

हालांकि, पुर्तगाल फारवर्ड रोनाल्डो ने टाई-ब्रेकर के माध्यम से गोल्डन बूट जीता, जबकि रोनाल्डो के नाम पर एक सहायता थी, सीक ने शून्य सहायता के साथ टूर्नामेंट समाप्त किया। इस रेस में तीसरे स्थान पर फ्रांस के करीम बेंजेमा थे, जिन्होंने यूरो कप-2020 में चार गोल दागे। रोनाल्डो ने यूरो 2020 में हंगरी के खिलाफ 3-0 की जीत में दो गोलों के साथ अपना खाता खोला, जिससे उनका सर्वकालिक यूरो कप फाइनल का रिकॉर्ड 11 के नए रिकॉर्ड पर पहुंच गया। दूसरे मैच में जर्मनी से मिली 4-2 की हार और फिर तीसरे मैच में फ्रांस के साथ 2-2 से ड्रॉ में पेनल्टी शूटआउट में वह 2 गोल करने में सफल रहे।