///

गांव पर टूटा हाथियों का कहर, ग्रामीणों ने किया ऐसे मुकाबला

हाथियों नें गांव में जमकर आतंक मचाया और खेतों के साथ घरों को नुकसान पहुंचाया।

सीधी। आदिवासी बहुल जनपद पंचायत कुसमी के अंतर्गत संजय टाइगर रिजर्व एरिया में हाथियों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है। संजय टाइगर रिजर्व एरिया में आने वाले दर्जन भर गांव में निवास करने वाले ग्रामीण दहशत के साए में जी रहे हैं। रविवार की रात कोटा गांव में फिर एक बार जंगली हाथियों के झुंड ने निशाना बनाते हुए कई मकानों को ध्वस्त कर दिया और वहां पर रखी खाद्य सामग्री को खा लिया।

जंगल से घरों में पहुंचा हाथियों का झुंड

रविवार की देर रात 1.30 बजे हाथियों का झुंड गांव के उत्तरी क्षेत्र के संजय टाइगर रिजर्व बफर एरिया के भैंसा डोल के जंगलों से होता हुआ कोटा गांव पहुंच गया। हाथियों का झुंड गांव में दशोमत साहू के गेहूं की खड़ी फसल को खाते, रौंदते हुए महाबीर साहू के घर पहुंच गए और घर के पास लगे केले के पेड़ों को उखाड़ कर खा गए। वहीं कुछ हाथियों ने खपरैल के मकान को ध्वस्त कर घर के अंदर रखे अनाज को हजम कर गए। हाथियों के झुंड की आहट सुनकर साहू ग्रामीण घर से भाग खड़े हुए और गांव में अफरा तफरी मच गई।

वन विभाग ने भगाए हाथी

ग्रामीणों के द्वारा हाथियों के झुंड के गांव में आने की सूचना वन विभाग के कर्मचारियों को दी गई। सूचना मिलने पर वन विभाग के लोग गांव में पहुंचे तब गांव के लोग अपने घरों के बाहर निकले और शोर शराबा करते हुए हाथियों को गांव से बाहर खदेड़ने की कोशिश की। इसके बाद हाथियों का झुंड वापस भैंसा डोल के जंगलों की ओर चले गए।