////

सीएम शिवराज की डिनर पॉलिसी , मंत्रियों को परोसे लजीज व्यंजन

Start

भोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को अपने मंत्रियों को डिनर पर आमंत्रित किया। डिनर सीएम हाउस में था और इस के बहाने उन्होंने अपने सहयोगियों से चर्चा की। शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों को उनके प्रभार के जिलों में कामकाज के तरीके बताएं और ट्रांसफर नीति के टिप्स भी दिए।

मंत्रियों के साथ की अनौपचारिक बैठक

कोरोना और कोरोना कर्फ्यू के कारण लंबे अरसे बाद शिवराज मंत्रिमंडल ने कुछ हल्के फुल्के पल बिताए। मौका डिनर का था जो सीएम ने अपने सरकारी घर में अपने कैबिनेट के सहयोगियों को दिया था। इस डिनर के बहाने डिनर पर चर्चा करने के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उससे पहले सभी मंत्रियों के साथ अनौपचारिक बैठक की। जिलों के प्रभार दिए जाने के बाद मंत्रियों के साथ यह पहली बैठक थी। इस बैठक में शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों को उनके प्रभार के जिलों में कामकाज के तरीके बताएं और ट्रांसफर नीति के टिप्स भी दिए।

नरोत्तम मिश्रा ने बताया एजेंडा

सीएम के डिनर से लौटे सरकार के प्रवक्ता और प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि विकास कार्यक्रमों, लोक कल्याणकारी योजनाओं और विकास के कार्यक्रमों का शिलान्यास यह तीनों काम प्रभारी मंत्रियों को अपने क्षेत्रों में करना है। मंत्रियों को अपने प्रभार वाले जिलों में कम से कम 2 दिन और एक रात बिताना होगा। एक दिन पहले ही बुधवार को जिलों की घोषणा हुई थी। गुरुवार को प्रभार के जिले मंत्रियों को सौंपे गए।

ट्रांसफर के टिप्स

उन्होंने बताया ट्रांसफर के संबंध में भी सीएम ने टिप्स दिए हैं। उन्होंने कहा विधायक सांसद और प्रबंध समिति के सदस्यों के परामर्श के बाद ही ट्रांसफर हो सकेंगे। वहीं मंत्री गोपाल भार्गव ने बताया कि प्रभार के जिलों का आवंटन होने के बाद बैठक करके व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त करने पर चर्चा हुई है।

मंथन से निकलेगा अमृत

डिनर के बाद कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा सीएम हमारे कप्तान हैं। वह निर्देश देंगे की टीम को किस तरह चलना है। जिलों में प्रभार के बाद यह बैठक जरूरी थी। मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा मंथन जरूरी है। मंथन होगा तो अमृत निकलेगा। मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा मंत्रियों को प्रभार मिलने के बाद यह बैठक जरूरी थी। सीएम दिशा निर्देश देंगे कि किस तरह काम किया जाए। उन दिशा-निर्देशों पर काम किया जाएगा। मंत्रियों का काम सिर्फ तबादले करना ही नहीं बल्कि क्षेत्र का विकास करना भी है. इन तमाम मुद्दों पर बात होगी।

डिनर में 9 मंत्री नहीं पहुंचे

सीएम शिवराज सिंह चौहान के डिनर में 30 में से 21 मंत्री पहुंचे। नौ मंत्री अपनी व्यस्तताओं के कारण नहीं पहुंच सके। दरअसल डिनर का कार्यक्रम अचानक रखा गया था। यही कारण है कि कुछ मंत्री बाहर थे या दूसरे कार्यक्रमों में व्यस्त थे। इसलिए सीएम हाउस नहीं पहुंच सके। मंत्री उषा ठाकुर पारिवारिक कार्यक्रम में व्यस्त थीं, वहीं उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव दिल्ली में हैं।