////

Delta Variant: देश में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट ने मचाया मौत का तांडव, वैक्सीन भी है इस पर बेअसर

Start

Delta Variant: कोरोना की दूसरी लहर का कहर अब कम होने लगा है। अचानक उभरे इस वायरस ने देश में भारी तबाही मचाई और लाखों लोगों को अपनी चपेट में ले लिया। इसकी कीमत हजारों लोगों को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी। ऐसे में इस बात पर विश्लेषण किया गया कि आखिर क्या वजह थी कि अचानक एक लहर ने सब कुछ तहस-नहस कर दिया। विशेषज्ञों का इस मामले में कहना है कि भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर (Covid-19 Second Wave) के लिए डेल्टा वैरिएंट (Corona Delta Variant) जिम्मेदार है।

अल्फा वैरिएंट से कई गुना ज्यादा खतरनाक

कोरोना महामारी से हुई भारी बरबादी के बाद अब देश में अब कोरोना वायरस की विदाई के संकेत मिलने लगे हैं। वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि भारत में वायरस के डेल्टा वैरिएंट नें मौत का आतंक चारों तरफ मचाया था। यह कोरोना वैरिएंट का भारत में प्रमुख संस्करण है और यह अल्फा वैरिएंट से कई गुना ज्यादा खतरनाक है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के एक रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है। NCDC ने जानकारी देते हुए बताया कि यह वायरस डेल्टा (बी.1.617.2) अल्फा (बी.1.1.7) की तुलना में 50 फीसद ज्यादा तेजी से फैलता है।

वैक्सीन के बाद भी संक्रमण की है संभावना

रिसर्च में इसबात का भी खुलासा हुआ कि वैक्सीन लेने के बाद भी कोरोना के इस वैरिएंट से संक्रमित होने की संभावनाएं ज्यादा हैं। जबकि कोरोना के अल्फा वैरिएंट में टीका लेने के बाद से एक भी व्यक्ति संक्रमित नहीं हुआ है। कोरोना का डेल्टा वैरिएंट काफी ज्यादा खतरनाक है और देश में दूसरी लहर में हुई ज्यादातर मौतों के लिए यह वैरिएंट जिम्मेदार है। देश में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट से मृत्यु दर और इसकी गंभीरता के बारे में अभी स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है, लेकिन कुल 29 हजार जीनोम सिक्वेंसिंग में डेल्टा वैरिएंट के 1000 से अधिक मामले सामने आए हैं और देश के ज्यादातर हिस्सों में इसकी मौजूदगी पाई गई है।