/

Cyclone Gulab: चक्रवात गुलाब ने दी दस्तक, ओडिशा में एक और आंध्र प्रदेश में दो की मौत

Start

Cyclone Gulab: चक्रवात गुलाब के रविवार को ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों से टकराने से इन राज्यों में खतरा मंडराने लगा है। इस चक्रवात की वजह से ओडिशा में एक और आंध्र प्रदेश में दो लोगों की मौत हो गई। चक्रवात गुलाब ने रविवार रात को ओडिशा में दस्तक दी।

तटीय इलाकों को किया सतर्क

ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त प्रदीप जेना के मुताबिक रात 8.30 बजे लैंडफॉल के बाद, चक्रवात कोरापुट और मलकानगिरी जिलों की ओर बढ़ रहा था, जहां तेज हवा के साथ बारिश हुई। इस वजह से ओडिशा के गंजम जिले में एक व्यक्ति बह गया और आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले के दो मछुआरों की मौत हो गई एक व्यक्ति अभी लापता बताया जा रहा है। सोमवार को ओडिशा के मलकानगिरी, कोरापुट, गंजम, गजपति और रायगढ़ जिलों में व्यापक बारिश होने की संभावना है। मलकानगिरी जिले के खारपुट में एक घर पर पेड़ गिर गया, जिससे एक ही परिवार के तीन सदस्य बाल-बाल बच गए। ओडिशा में चक्रवात ‘गुलाब’ को लेकर तैयारियां युद्धस्तर पर की जा रही है। इससे निपटने के लिए नौसेना के कई जहाज और विमान अलर्ट पर रखा गया है।

हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश

आंध्र प्रदेश के मत्स्य पालन मंत्री ने चक्रवात गुलाब से निपटने के लिए नौसेना के अधिकारियों से संपर्क किया है। इस समय चक्रवात से उत्तरी तटीय जिलों विशाखापत्तनम, विजयनगरम और श्रीकाकुलम में मध्यम से भारी बारिश हो रही है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण आयुक्त के कन्ना बाबू ने विशाखापत्तनम में जिला कलेक्टरों और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हालात की समीक्षा की और उन्हें हाई अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया। चक्रवात के संभावित खतरे को देखते हुए ओडिशा के गंजम और गजपति जिले के लगभग 39,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुचाया गया। गजपति जिले में एक पहाड़ में भूस्खलन के बाद आवागमन प्रभावित हुआ है।

नौसेना निपटने के लिए है तैयार

चक्रवात गुलाब से निपटने के लिए नौसेना के दो जहाज राहत सामग्री लेकर समुद्र में खड़े हुए हैं। डॉक्टरों का दल प्रभावित क्षेत्रों में लोगों की सहायता के लिए तैनात किया गया है। चक्रवात से प्रभावित लोगों को तत्काल सहायता पहुंचाने के लिए बाढ़ राहत दल और गोताखोरों की टीम विशाखापट्टनम में अलर्ट पर है। चक्रवात के संभावित खतरे को देखते हुए ईस्ट कोस्ट रेलवे ने गुण 34 ट्रेनों को रद्द कर दिया है। इसके अलावा 13 ट्रेनों के समय में बदलाव किया गया है और कम से कम 17 ट्रेनों को डायवर्ट भी किया है।