///

तिहाड़ जेल में सलाखों के पीछे से अपराधी ने की 200 करोड़ की ठगी

शिवेंद्र मोहन सिंह की पत्नी अदिति सिंह ने इस मामले में एफआईआर दर्ज करवाई है।

नई दिल्ली: अकसर यह बात होती है कि बड़े अपराधियों के लिए सबसे सुरक्षित पनाहगार जेल होती है और जेल में बैठकर वह बड़े से बड़े अपराधों को आसानी से अंजाम देते हैं। तिहाड़ में बैठकर सुकेश चंद्रशेखर नाम के एक आरोपी ने 200 करोड़ की ठगी और जबरन वसूली को अंजाम दिया है।

रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर शिवेंद्र मोहन सिंह को लगाई चपत

जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि सुकेश चंद्रशेखर ने प्रधानमंत्री ,गृहमंत्री और कानून मंत्रालय का फ़र्ज़ी अफसर बनकर स्पूफिंग के जरिये बातचीत की और रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर शिवेंद्र मोहन सिंह को चपत लगाई। शिवेंद्र मोहन सिंह अक्टूबर 2019 से जेल में बंद हैं. उनसे जून 2020 से 2021 तक 200 करोड़ की जबरन वसूली और ठगी हुई। शिवेंद्र मोहन सिंह की पत्नी अदिति सिंह ने इस मामले में एफआईआर दर्ज करवाई है।

मदद के नाम पर ठगी

सुकेश चंद्रशेखर के खिलाफ 7 अगस्त को स्पेशल सेल के थाने में आईपीसी 170, 384, 386, 388, 419, 420, 506,120B के तहत केस दर्ज हुआ है। शिवेंद्र मोहन सिंह के साथ पार्टी फंड में 200 करोड़ जमा करने के नाम पर ये ठगी हुई है। सूत्रों के मुताबिक शिवेंद्र मोहन सिंह की पत्नी के पास एक महिला का फोन आया उसने कहा कि कानून मंत्रालय के सचिव अनूप कुमार आप से बात करेंगे। उन्होंने कहा कि ऊपर से आपकी मदद करने के लिए आदेश आया है. उन्होंने कहा कि कोविड के समय मे सरकार चाहती है कि आप सरकार के साथ काम करें। अनूप में कहा कि मेरे जूनियर अभिनव के संपर्क में रहे।

धमकी देकर हड़पे रुपए

अदिति सिंह ने कहा कि वह अभिनव को हमारे कारोबार और कंपनियों के बारे में पूरी जानकारी थी। शुरुआत में रुपयों की मांग नहीं की गई, लेकिन बाद में डरा धमकाकर 200 करोड़ रुपए हड़प लिए। वो विदेश में पढ़ रहे मेरे बच्चों को देख लेने की धमकी देते रहे।