Mradhubhashi
Search
Close this search box.

Court News: विवाहिता से दुष्‍कर्म के आरोपी को कोर्ट ने सुनाई 10 साल की सजा, अर्थदंड भी लगाया

Court News: विवाहिता से दुष्‍कर्म के आरोपी को कोर्ट ने सुनाई 10 साल की सजा, अर्थदंड भी लगाया

बच्‍चों के साथ सो रही महिला से घर में घुसकर आरोपी ने किया था दुष्‍कर्म

धार, सरदारपुर। घर में घुसकर विवाह‍िता से दुष्‍कर्म के आरोपी को न्‍यायालय ने 10 वर्ष के सश्रम कारावास और अर्थदंड से दंडित किया है। आरोपी ने पीडिता के घर में घुसकर उससे दुष्‍कर्म कर जान से मारने की धमकी दी थी जिसके बाद पीडिता ने पति के आने के बाद पूरा घटनाक्रम बताया और राजोद थाने में आरोपी के खिलाफ दुष्‍कर्म सहित अन्‍य धाराओं में प्रकरण दर्ज करवाया था।

यह है मामला :

जानकारी के अनुसार राजोद थाना अंतर्गत ग्राम नाहरखोदरा में 16 दिसंबर 2021 को पीडिता अपने घर में बच्‍चों के साथ सो रही थी तभी गांव का ही आरोपी पप्पू पिता मयाराम ने पीडिता का दरवाजा खटखटाया। जब पीडिता ने दरवाजा खोला तो आरोपी धक्‍का देकर पीडिता के घर में घुस गया और उससे दुष्‍कर्म कर जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गया।

पति के आने के बाद पीडिता ने पुरा घटनाक्रम बताया और आरोपी पप्‍पू पिता मायाराम के विरूद्ध थाना राजोद में धारा 376 450, 506 भा.द.सं. प्रकरण पंजीबद्ध कराया। प्रकरण की विवेचना गिरदारसिंह व सरोज बारोड उप निरीक्षक द्वारा की गई। अनुसंधान पश्चात प्रकरण विचारण हेतु न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।

प्रकरण का विचारण द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश सरदारपुर के न्यायालय में चला। अभ‍ियोजन की और से साक्षियों के कथन न्‍यायालय में करवाया गए। न्यायालय के समक्ष पीड़िता उसके पति व एक अन्य साक्षी द्वारा घटना का समर्थन किया। मेडिकल रिपोर्ट जिसमें घटना के समय पीड़िता के जमीन पर गिरने से सिर में व पैरो में चोंट पाने की पुष्टि पाते हुए न्यायालय द्वारा विचारण के दौरान न्यायालय के समक्ष आई समस्त साक्षीयों के कथनो पर सही एवं उचित पाते हुए आरोपी पप्पू पिता मयाराम को 450 भादस में तीन वर्ष सश्रम कारावास एवं 1 हजार रुपए का अर्थदंड।

धारा 376 म.द.स. में 10 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5 हजार रूपए का अर्थदंड एवं धारा 506 (भाग -2) दो वर्ष के सश्रम कारावास एवं 1 हजार रू. का अर्थदंड की सजा सुनाई गई। अर्थदंड की राशि पीड़िता के दिलवाये जाने का आदेश दिया एवं सजा वारंट तैयार कर आरोपी को जेल भेजा गया। शासन की ओर से अतिरिक्त शासकीय लोक अभियोजक शरद कुमार पुरोहित द्वारा पैरवी की गई।

ये भी पढ़ें...
क्रिकेट लाइव स्कोर
स्टॉक मार्केट