///

Coronavirus: अब दो साल से ऊपर के बच्चों के लिए भी जल्द आएगी कोरोना वैक्‍सीन

Start

Coronavirus: देश में लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाने के लिए बड़े स्‍तर पर टीकाकरण अभियान चल रहा है। हाल ही में भारतीय औ‍षधि महानियंत्रक की ओर से 12 से अधिक उम्र के लोगों के लिए जाइकोव डी कोरोना वैक्‍सीन को मंजूरी दी गई है। अब केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मनसुख मांडविया ने रविवार को कहा है कि 2 साल से अधिक उम्र के बच्‍चों के लिए भी कोरोना की वैक्‍सीन जल्‍द उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि 2 साल के ऊपर के बच्चों की कोरोना वैक्‍सीन के लिए भारत बायोटेक के तीसरे ट्रायल को भी मंजूरी दे दी गई है। यह वैक्सीन जल्‍द बच्‍चों के लिए उपलब्‍ध होगी। मांडविया ने गुजरात में भरूच जिले के अंकलेश्वर स्थित भारत बायोटेक के नए संयंत्र से रविवार को कोवैक्सीन टीके की पहली वाणिज्यिक खेप रवाना की।मांडविया ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम के तुरंत बाद ट्वीट किया कि देश को कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में मजबूत करने के लिए सबसे जरूरी है टीकाकरण।

टीकों की आपूर्ति बढ़ेगी

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि वाणिज्यिक खेप से देश में टीकों की आपूर्ति में बढ़ोतरी होगी एवं हर भारतीय तक टीका पहुंचाने में मदद मिलेगी। सरकार ने इस महीने की शुरुआत में भारत बायोटेक के अंकलेश्वर स्थित विनिर्माण संयंत्र को कोविड-19 रोधी कोवैक्सीन टीके का उत्पादन करने की मंजूरी दी थी।

सितंबर में रफ्तार पकड़ेगा टीकाकरण

कोरोना वायरस के खिलाफ भारत में निर्णायक जंग शुरू होने जा रही है। सितंबर से कोरोना टीकाकरण अभियान रफ्तार पकड़ने जा रहा है। शुक्रवार को एक करोड़ से अधिक टीके लगाने का रिकॉर्ड बनाने के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने सितंबर में टीकाकरण तेज करने के लिए तैयारियां आरंभ कर दी हैं। सितंबर में 24 करोड़ से अधिक टीके लगाए जाने की संभावना है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि सितंबर के लिए कोरोना टीके की 24 करोड़ खुराक का इंतजाम किया जा रहा है। इसलिए यह उम्मीद है कि सितंबर में औसतन रोज 80 लाख टीके लगाने का लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाएगा।

स्कूल खोले जाने पर डॉ नरेश त्रेहन नाराज

बच्चों के टीकाकरण से पहले राज्यों में स्कूल खोले जाने पर डॉ. नरेश त्रेहन ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि हमें समझ नहीं आ रहा कि स्कूल खोलने की इतनी जल्दबाजी क्यों है। बच्चे अगर बीमार पड़ने लगे तो उन्हें संभालना मुश्किल होगा। इसलिए मेरी लोगों से अपील है कि वैक्सीन जब तक न आ जाए तब तक धैर्य बनाए रखें। एक बार सभी बच्चे को टीके लग जाएं फिर आप स्कूल खोलें। उन्होंने कहा कि हमारी जनसंख्या के आकार को देखते हुए हमें सतर्क रहना चाहिए। इससे पहले उन्होंने कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर कहा था कि हमारी संख्या इतनी ज्यादा है कि अभी चार-पांच महीने लग सकते हैं। हमें यह देखना है कि तीसरी लहर जो आएगी हम उसे कितना छोटा कर सकते हैं और कितना टाल सकते हैं।

अभी यह है देश का हाल

-45,083 कोरोना के नए मामले आए देश में 24 घंटे में
-35,840 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे
-460 लोगों की मौत हो गई
-3,68,558 है एक्टिव मरीजों की संख्या