///

Coronavirus: दूसरी लहर की तबाही है अभी बाकी, विशेषज्ञों ने कही ये बात

Start

Coronavirus:देश में कोरोना की दूसरी लहर से काफी ज्यादा लोग प्रभावित हो रहे हैं। अस्पतालों में बेड से लेकर इलाज तक की सुविधा का अभाव है तो श्मशान में अंतिम संस्कार के लिए तक जगह नहीं मिल रही है। ऐसे में कोरोना के मोर्चे से जूझ रहे असहाय और लाचार देश के लिए अच्छी खबर नहीं है। विशेषज्ञों की माने तो 15 मई तक देश में कोरोना के रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आ सकते हैं। अभी देश खतरनाक स्थिति से जूझ रहा है तो उस वक्त की भयावहता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

15 मई को रह सकता है कोरोना का पिक

कोरोना की दूसरी लहर ने देश के हर तबके और कोने को झकझोर कर रख दिया है। रोजाना संक्रमितों और मृतकों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। इस बीच विशेषज्ञों ने चिंता को बढ़ाने वाली खबर दी है। आईटी के वैज्ञानिकों का कहना है कि भारत में 15 मई तक तकरीबन 50 लाख तक कोरोना के एक्टिव केस सामने आ सकते हैं। आईआईटी के मैथमैटिकल मॉडल के मुताबिक देश में, 14-18 मई के बीच दूसरे लहर की पीक होगी, जिसमें सक्रिय मामले 38-48 लाख तक पहुंच सकते हैं। वहीं, 4-8 मई के बीच रोजाना संक्रमण का आंकड़ा 4.4 लाख तक जा सकता है। गौरतलब है कि देश में पिछले कई दिनों से तीन लाख से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं। सोमवार सुबह आए आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में देश में 3,52,991 नए कोरोना के मामले सामने आए, जबकि इस दौरान 2,812 लोगों की मौत हो गई। सक्रिय केसों की संख्या बढ़कर 28,13,658 हो गई है।

IIT ने तैयार किया मॉडल

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलोजी कानपुर और हैदराबाद ने सूत्र मॉडल के अनुसार सक्रिय केसों के बढ़ने की बात कही है। उनकेमुताबिक, मध्य मई तक दस लाख और कोरोना के सक्रिय केस बढ़ सकते हैं। इससे पहले, पिछले हफ्ते रिसर्चर्स ने अंदाज लगाया था कि 11-15 मई के बीच दूसरी लहर का पीक आ सकता है, जिसमें सक्रिय केस बढ़कर 33-35 लाख के बीच हो सकते हैं।इसके बाद मई के अंत से कोरोना के नए मामले घटने लगेंगे, जिससे लोगों को काफी राहत मिलेगी। हालांकि, इस महीने की शुरुआत में इसी मॉडल के हवाले से यह कहा गया था कि 15 अप्रैल तक सक्रिय केस का पीक आएगा, जोकि गलत साबित हुआ। आईआईटी कानपुर में कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के प्रोफेसर मनिंदर अग्रवाल ने कहा, ”इस बार हमने सबसे कम और सबसे ज्यादा वैल्यू को भी लिया है और मुझे पूरा विश्वास है कि जो दो संख्या दी गई है, उसके बीच में ही सही मामले होंगे।”