////

सिंधिया की बगावत के एक साल पर कांग्रेस का लोकतंत्र सम्मान दिवस

सिंधिया की बगावत के एक साल पर कांग्रेस का लोकतंत्र सम्मान दिवस

इंदौर। एक साल पहले ठीक आज ही के दिन ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए थे। जिसे लेकर भाजपा आज के दिन को सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने पर जश्न के रूप में मना रही है, वही कांग्रेस आज लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाकर सरकार के खिलाफ आक्रोश जाहिर कर रही है। इसी कड़ी में इंदौर में भी कांग्रेस कार्यालय पर कांग्रेसी जुटे और संविधान की रक्षा करने का प्रण लिया।

बताते चलते है की आज से ठीक एक साल पहले 15 महीने पुरानी कमलनाथ सरकार गिर गई थी। तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था। जिसको लेकर आज कांग्रेसियों ने लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाया। आयोजन में पूर्व मंत्री जीतू पटवारी, सज्जन वर्मा और कांग्रेस विधायकों सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हुए। आयोजन के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के सन्देश का वीडियो भी प्रसारित किया गया।जिसमे कमलनाथ ने भाजपा पर स्थिर और चुनी हुई सरकार को गिराने के आरोप लगाया।

हमारे अध्याय में अब सिंधिया समाप्त : पटवारी

इस दौरान पूर्व मंत्री जीतू पटवारी और सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि हमारे अध्याय में अब ज्योतिरादित्य सिंधिया समाप्त हो चुके हैं, वे लोकतंत्र की हत्या करने वाली पार्टी के सदस्य हैं। मध्य प्रदेश में जनता द्वारा चुनी हुई सरकार को गिराने के लिए बीजेपी ने संविधान की मूलभावना को तार-तार कर लोकतंत्र को खतरे में डाला।  वही कांग्रेस के इस आयोजन पर बीजेपी तंज कस्ते हुए यह कह रही है कि अपनी सरकार गिरने पर आयोजन करके कांग्रेस खुद हसी का पात्र बन रही है। बता दें कि वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आज ही के दिन कांग्रेस से बगावत कर दी थी। जिसके बाद सिंधिया के साथ 22 विधायकों ने भाजपा का दामन थाम लिया था। इस कारण 20 मार्च 2020 को कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी बाद में 23 मार्च को शिवराज सिंह सरकार एक बार फिर सत्ता में लौटी थी जिसको लेकर आज कांग्रेसी पूरे प्रदेश में लोकतंत्र सम्मान दिवस मना रहे है।