/

मुख्यमंत्री के नेतृत्व में बुरहानपुर जिला तेजी से प्रगति कर रहा -पूर्व मंत्री चिटनिस

बुरहानपुर। पूर्व मंत्री अर्चना चिटनिस ने गत वर्षो में बुरहानपुर जिले में कराए गए विकास कार्यो के लिए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान का आभार प्रकट करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में बुरहानपुर जिला तेजी से प्रगति कर रहा हैं। उन्होंने कहा कि शिवराज जी के पुनः मुख्यमंत्री बनते ही बुरहानपुर के विकास को और गति मिल सकी है। बुरहानपुर में पुनर्घत्वीकरण योजनांतर्गत विकास के नए द्वार खुले है। आज हम 113 करोड़ रूपए के विकास कार्यो का भूमिपूजन कर रहे है। आने वाले समय इसी योजनांतर्गत 200 करोड़ से अधिक के विकास कार्य सुनिश्चित हो सकेंगे। चिटनिस ने कहा कि अगर नया अस्पताल न बनता, नया आयुर्वेद नहीं बनता तो पुनर्घत्वीकरण योजना मूर्तरूप ले नहीं सकती थी। पुराने जीर्णशीर्ण हो चुके भवनों के स्थान पर नए भवन बनेंगे। इन स्थानों का बेहतर सदुपयोग हो सकेंगा। पुनर्घत्वीकरण योजना अंतर्गत एक-एक पैसा बुरहानपुर में खर्च होंगा। बुरहानपुर के मध्य से जा रही इंदौर-ईच्छापुर मार्ग पर शहर में फोरलेन मार्ग बन सकेगा। इसी के साथ ही स्पोर्टस कॉम्प्लेक्स का निर्माण भी किया जाएगा। वहीं आधुनिक अस्पताल का निर्माण सहित तहसील भवनों का निर्माण होगा।

पहले 8 हाईस्कूल थी आज 36 हाईस्कूल है।

चिटनिस ने कहा कि जो हम 15 साल में उतना नहीं समझे जितना हम 15 महीने की कांग्रेस की सरकार में समझ गए है कि मध्यप्रदेश के पालनहार माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान है। चिटनिस ने कहा कि पहले 500 हेक्टेयर में सिंचाई थी जो अब 2400 हजार हेक्टेयर में सिंचाई हो रही है। पहले 8 हाईस्कूल थी आज 36 हाईस्कूल है। शिवराजी जी के कारण ही आज हमारे जिले में शासकीय महाविद्यालय,आईटीआई कॉलेज है। 12 करोड़ रूपए आयुर्वेद कॉलेज के लिए दिए, जिसके लिए बुरहानपुर वासियों की ओर से धन्यवाद करते हुए मन से आभार व्यक्त करती हूं।

शीघ्रता-शीघ्र पूर्ण करने संबंधी निर्देश जारी करने का अनुरोध किया

अर्चना चिटनिस ने कहा कि बुरहानपुर जिले का भूमिगत जल स्तर काफी नीचे चला गया है। ताप्ती मेगा रिचार्ज योजना के क्रियान्वयन हेतु आवश्यक शासन स्तर की सारी स्वीकृतियां शीघ्रता-शीघ्र जारी करने हेतु निर्देशित करने का कष्ट करें। पूर्व मंत्री चिटनिस ने मुख्यमंत्री से मांग करते हुए कहा कि उपनगर लालबाग की जीवन रेखा पूर्व की भांति निर्बाध रूप से चलती रहे इस हेतु केंद्रीय टेक्सटाइल मंत्री पीयूष गोयल से तत्संबंध में चर्चा कर लोकहित में आवश्यक निर्णय करावे। उपनगर लालबाग के चिंचाला एवं बुरहानपुर नगर के बीच से बहने वाले पांडारोल नाले को मसानी हनुमान घाट ताप्ती नदी स्टार्म वाटर योजना से स्वीकृत कर पक्का बनाने की मांग भी की। साथ ही निर्माणाधीन रहेटा-खड़कोद औद्योगिक क्षेत्र के शेष रहे विकास कार्यो को शीघ्रता-शीघ्र पूर्ण करने संबंधी निर्देश जारी करने का अनुरोध किया। वहीं ताप्ती जल आवर्धन योजना और सीवरेज योजना के यथाशीघ्र पूर्ण कराने तथा गुणवत्ता की जांच हेतु जारी करने का अनुरोध किया।

हर घर में नल से शुद्ध पानी पहुंचाना सुनिश्चित करें।

पूर्व मंत्री चिटनिस के आग्रह पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने जल जीवन मिशन के तहत नागरिकों को उनके घर तक पाईप लाईन व नल के माध्यम से पर्याप्त पानी उपलब्ध कराने के लिए जिला अधिकारियों को निर्देश दिए कि बुरहानपुर में आगामी 25 सितम्बर तक हर घर में नल से शुद्ध पानी पहुंचाना सुनिश्चित करें।

बुरहानपुर में करीब 113 करोड़ रूपए के विकास कार्य होंगे ।

पूर्व मंत्री अर्चना चिटनिस ने कहा कि मध्यप्रदेश की पुनर्घत्वीकरण योजना बुरहानपुर के धरातल पर उतरने जा रही है। योजनांतर्गत शहर के विकास एवं नवीनीकरण को चरणबद्ध रूप में मूर्तरूप मिल सकेंगा। बुरहानपुर में करीब 113 करोड़ रूपए के विकास कार्य होंगे। बुरहानपुर में पुनर्घत्वीकरण योजना-2016 को मूर्तरूप मात्र 1 वर्ष 2 दिन में मिल सका है। इस योजना को मूर्तरूप दिलाने हेतु दिवंगत सांसद स्व.नंदकुमारसिंह चौहान का योगदान भी रहा। श्रीमती चिटनिस ने बताया कि इस योजना को मात्र एक वर्ष में स्वीकृति मिल सकी, जिसके लिए मध्यप्रदेश हाउसिंग बोर्ड के तत्कालीन अध्यक्ष कृष्ण मुरारी मोघे का विशेष सहयोग रहा।

शासन को 101 करोड़ रूपए प्राप्त होंगे

चिटनिस ने बताया कि वर्तमान में इस योजना में स्वीकृति अनुसार भूमि का मूल्य का आंकलन गाईडलाईन की दर के अनुसार किया गया। जिसमें जिला चिकित्सालय के जीर्णशीर्ण भवन की भूमि, तहसील-जनपद कार्यालय एवं आयुर्वेदिक कॉलेज की जमीन का चयन कर इनकी आंकलित कीमत की निर्धारित राशि लगभग 97 करोड़ के वर्ष 2019 में दो बार निविदाएं आमंत्रित की गई। जिसमें किसी ने भाग नहीं लिया। पुनःइसकी समीक्षा करने पर तीन भागों में विभक्त कर पुनःनिविदाएं आमंत्रित की गई। जिसमें जिला चिकित्सालय की 40 करोड़ की भूमि के विरूद्ध 54.25 करोड़ तथा तहसील-जनपद भूमि की 35 करोड़ भूमि के विरूद्ध 47 करोड़ के ऑफर प्राप्त हुए। जिसे शासन से दिनांक मई 2021 को स्वीकृति दी गई। इससे शासन को 101 करोड़ रूपए प्राप्त होंगे। इससे लगभग 82 करोड़ के निर्माण प्रस्तावित है तथा शेष राशि शासन मद में जमा की जाएगी। इसी के साथ तृतीय पैकेज की निविदा भी आमंत्रित कर दी गई है, इससे 12 से 15 करोड़ रूपए की राशि शासन को प्राप्त हो सकेंगी। पूरी प्रक्रिया अत्यंत पारदर्शी तरीके से संपन्न हुई है।

बुरहानपुर से मृदुभाषी के लिए गौरव शुक्ला की रिपोर्ट