/

Budget 2021-22: हार्ड कॉपी की बजाय सॉफ्ट कॉपी में होगा इस बार का बजट भाषण

जो संसद सदस्य टेक सैवी नहीं, उनके लिए सीमित संख्या में कॉपी छापना मुमकिन नहीं

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से इस बार भारत सरकार का बजट भी प्रभावित हो रहा है। संक्रमण से बचाव के तहत इस बार बजट 2021-22 को नहीं छापा जा रहा है। बल्कि सॉफ्ट कॉपी में इस साल बजट पेश होगा।

संसद सदस्यों को मिलेगी सॉफ्ट कॉपी

कोरोना का प्रकोप इस बार बजट पर भी छाया रहेगा। आजादी के बाद पहली बार बजट को छापा नहीं जाएगा, बल्कि इसको सॉफ्ट कॉपी के रूप में पेश किया जाएगा। इसके लिए सरकार को सदन के दोनों सदनों की मंजूरी मिल गई है। संसद सदस्यों को बजट की सॉफ्ट कॉपी उपलब्ध करवाई जाएगी। बजट को हर साल वित्त मंत्रालय की प्रिंटिंग प्रेस में छापा जाता है।

छपाई से कोरोना फैलने का खतरा

वित्त मंत्रालय ने बताया कि बजट की छपाई के लिए 100 से ज्यादा लोगों को दो सप्ताह तक एक ही स्थान पर रखना होता है। कोरोना की वजह से सरकार इतने लंबे समय तक लोगों को प्रिंटिंग प्रेस में नहीं रख सकती है। सरकार को सांसदों को मनाने के लिए कड़ी मशक्कत करना पड़ी। बजट की छपाई से पहले हलवा सेरेमनी का भी आयोजन किया जाता है।