//

पंजीयन रोके जाने से नाराज जूड़ा ने शुरू की हड़ताल, 6 महाविद्यालयों में स्वास्थ्य व्यवस्था ठप

भोपाल। मेडिकल काउंसिल में पंजीयन रोकने से नाराज प्रदेश के छह शासकीय चिकित्‍सा महाविद्यालयों के जूनियर डाक्टरों ने आज सुबह से फिर हड़ताल पर जाने का ऐलान कर दिया है। इनमें भोपाल के अलावा इंदौर, ग्‍वालियर, जबलपुर, रीवा और सागर में स्‍थित चिकित्‍सा महाविद्यालयों के जूनियर डॉक्‍टर शामिल हैं।

गौरतलब है कि मानदेय में बढ़ोतरी समेत अन्य मांगों को लेकर जूडा ने इस साल 31 जून से छह जुलाई तक हड़ताल की थी। हड़ताल में शामिल होने से जीएमसी के तीन जूडा पदाधिकारियों का मप्र मेडिकल काउंसिल में पंजीयन रोक दिया है। जिन पदाधिकारियों का पंजीयन रोका गया है, उसमें जूडा के प्रदेश अध्यक्ष डा. अरविंद मीणा, जीएमसी जूडा अध्यक्ष डा. हरीश पाठक और शुभम चौरसिया शामिल हैं। ये तीनों अभी पीजी द्वितीय वर्ष में हैं। इनका पंजीयन रोकने के विरोध में यह हड़ताल की जा रही है।

जूडा के पदाधिकारियों ने बताया कि बुधवार सुबह आठ बजे से हड़ताल शुरू कर दी है। इइमरजेंसी सेवाएं भी बंद रहेंगी। मांगें नहीं मानी गईं तो आंदोलन चलता रहेगा। जूडा हड़ताल से ओपीडी, वार्ड और इमरजेंसी में सेवाएं प्रभावित होंगी। ऑपरेशन टालने की नौबत भी आ सकती है। जूडा की हड़ताल से मरीजों की दिक्‍कतें बढ़ना तय है।