////

अमेरीकी विशेषज्ञ का दावा, वैक्सीन की दो खुराक के बीच समय बढ़ाने से संक्रमण का खतरा ज्यादा

Start

Corona Vaccian: कोरोना वैक्सीन को लेकर रोजाना कुछ नई बातें निकलकर सामने आ रही है। अब वैक्सीन की अवधि को लेकर नया खुलासा हुआ है, जिसमें कहा गया है कि वैक्सीन के दो खुराक के बीच समय अंतराल बढ़ने से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। इस बात का खुलासा महामारी एक्सपर्ट डॉ. एंथनी फौसी ने किया है।

डॉ. एंथनी फौसी ने किया दावा

कोरोना विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फौसी ने NDTV से बातचीत में कहा कि वैक्सीन के दो डोज के बीच समय बढ़ाने से लोगों में लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। ब्रिटेन में इस तरह के मामले सामने आए हैं। डॉ. एंथनी फौसी का यह बयान भारत के लिए काफी मायने रखता है, क्योंकि सरकार ने पिछले महीने कोवीशील्ड की दो खुराक के बीच का अंतर बढ़ाकर 12-16 हफ्ते किया है। इससे पहले यह समयावधि 6 से 8 हफ्ते की थी। इससे पहले मार्च में भी यह समयांतर 28 दिन से बढ़ाकर 6-8 हफ्ते किया गया था। सरकार का कहना है कि दो खुराक के बीच अंतर बढ़ाने से वैक्सीन का असर बढ़ जाएगा।

वैरिएंट डेल्टा के लिए वैक्सीनेशन जरूरी

लेकिन फौसी का इस मामले में कहना है कि हमें वैक्सीनेशन में समयांतर बढ़ाने की बजाय तयशुदा वक्त के हिसाब से ही चलना चाहिए। साथ ही कहा है कि यबि आपके पास वैक्सीन की सप्लाई काफी कम है तो फिर समय बढ़ाना जरूरी भी हो जाता है। कोरोना के ज्यादा संक्रामक वैरिएंट डेल्टा को हराने के लिए लोगों को जल्द से जल्द वैक्सीनेट करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारत के कई राज्यों में डेल्टा वैरिएंट का काफी प्रकोप हो चुका है। यह एक से दूसरे व्यक्ति में काफी तेजी से और असरदार तरीके से फैलता है। जिन-जिन देशों में यह वैरिएंट पाया गया है वहां पर संक्रमण बढ़ने का खतरा काफी ज्यादा है।