अपर कलेक्टर एम.एल. आर्य को सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई दी गई

Start

रतलाम। अपर कलेक्टर श्री एम.एल. आर्य को 29 वर्ष के लम्बे सेवाकाल पश्चात सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई दी गई। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा श्री आर्य के भावी स्वस्थ, सुखद् एवं उज्जवल जीवन की शुभकामनाएं दी गई। इस अवसर पर कलेक्टर श्री नरेंद्र कुमार सूर्यवंशी, डिप्टी कलेक्टर श्री त्रिलोचन गौड़, एसएलआर श्री रमेश सिसोदिया, कार्यालय अधीक्षक श्री प्रभाकांत उपाध्याय, स्टेनो श्री इरफान खान, श्री संभाजीराव शिंदे तथा कलेक्ट्रेट के अन्य अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे।

इस अवसर पर आर्य का कलेक्टर सूर्यवंशी तथा अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा पुष्पहारों से स्वागत, अभिनंदन किया गया। आत्मीयता से भरे उद्बोधन में वक्ताओं द्वारा श्री आर्य की कर्मठता, कार्य के प्रति निष्ठा की सराहना की गई।

कलेक्टर नरेंद्र सूर्यवंशी ने अपने उद्बोधन में श्री आर्य को भावी जीवन के लिए शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज की स्थिति में रतलाम जिला प्रगति के पथ पर दौड़ रहा है, इसका श्रेय अपर कलेक्टर श्री आर्य को भी जाता है जिनके द्वारा कर्मठता, निष्ठा से प्रत्येक कार्य दायित्व को पूर्ण किया जाता रहा है। कलेक्टर ने कहा कि श्री आर्य समय सीमा में कार्य करते रहे, कार्य में गुणवत्ता का पूरा ध्यान रखा। जिला प्रशासन के सफल संचालन कार्य दायित्व का निपटारा तथा जनहित में श्री आर्य ने बखूबी अपना योगदान दिया है।

डिप्टी कलेक्टर त्रिलोचन गौड़ तथा जावरा एसडीएम श्री हिमांशु प्रजापति ने भी अपने उद्बोधन में श्री आर्य को भावी स्वस्थ, दीर्घायु जीवन के लिए शुभकामनाएं दी। सहायक वर्ग 2 श्री मनीष माथुर ने भी अपने संबोधन में श्री आर्य द्वारा शासकीय कार्य दायित्व निभाने में दिए गए मार्गदर्शन की सराहना की। कार्यक्रम का संचालन श्री प्रभाकांत उपाध्याय ने किया, आभार तहसीलदार श्रीमती अनीता चौकोटिया ने माना। कार्यक्रम में कलेक्टर श्री सूर्यवंशी द्वारा अपर कलेक्टर श्री आर्य को शाल-श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर सेवानिवृत्त अपर कलेक्टर श्री एम.एल. आर्य ने अपने शासकीय सेवा काल का स्मरण करते हुए दायित्वों के निर्वहन में सहयोग हेतु कलेक्टर श्री नरेंद्र कुमार सूर्यवंशी सहित सभी अधिकारियों, कर्मचारियों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि शासकीय सेवा में कार्य दायित्वों का निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ निर्वहन आवश्यक है। परिश्रम एवं लगन जरूरी है, परिश्रमी व्यक्ति सदैव सम्मान अर्जित करता है। श्री आर्य ने सभी अधिकारियों, कर्मचारियों से आग्रह किया कि निष्ठा, मेहनत के साथ अपने दायित्व का निर्वहन करते हुए तनावरहित प्रसन्नता से भरा जीवन जिएं, अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें।

अर्चित अरविन्द डांगी { मध्यप्रदेश, रतलाम }