//

पिपरी बोरवन तालाब के 42 लाख के मामले में बयान देने पहुँचा आरोपी इम्तियाज

बुरहानपुर – जिले के नेपानगर के खकनार तहसील क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम पिपरी बोरबन तालाब के भूमि अधिग्रहण की वितरण राशि मे 42 लाख के फर्जी वाड़े के मामले में प्रशासनिक जांच लगभग 1 माह से चल रही है। यहाँ डेम में हुए लाखो रुपये के घोटाले के मास्टरमाइंड इंतियाज खान पिता अख्तर खान के बयान मंगलवार को एडीएम शैलेन्द्र सौलंकी के समक्ष हुए। अपने बयान में इम्तियाज ने खुल कर तत्कालीन भू अर्जन अधिकारी विशा माधवानी को मुख्य मास्टर माइंड बताया साथ ही यह भी बताया कि एस डी एम मेडम के बंगले से ही यह पूरी फाइल चलाई है और मेडम ने ही इस पूरे मामले को अपने स्वयं के आदेश पर ही आगे बढ़ाया है । वही इस मामले में 90 प्रतिशत विशा माधवानी व कुछ बैंक अधिकारी की भूमिका होना बताया है। साथ 10 प्रतिशत अन्य लोगो की भूमिका है। अब देखना है कि इस मामले में तत्कालीन एसडीएम विशा माधवानी पर प्रशासन क्या कार्रवाई करता है।

इम्तियाज़ ने तत्कालीन एसडीएम एवं भू अर्जन अधिकारी विशा माधवानी पर गंम्भीर आरोप लगाए हैं। इम्तियाज ने बताया कि मेरे आधार का दुरुपयोग कर स्टाम्प वेंडर से स्टॉप खरीदा गया मैंने कोई स्टाम्प नही खरीदा है और ना ही मैंने स्टाम्प वेंडर के रजिस्टर पर हस्ताक्षर किए है। मैं जल्द ही मीडिया को सबूत के साथ मिलूँगा और हर एक बातों का खुलासा भी करूंगा । पिपरी बोरवन मामले में मुख्य आरोपी कहे जाने वाले इम्तियाज के बयान के बाद तत्कालीन एसडीएम की भूमिका पर सवाल उठ रहे है। ऐसी स्थिति में उन्हें तत्काल निलंबित किया जाना चाहिए ताकि जांच प्रभावित न हो ।

शिकायतकर्ता एवं प्रेस क्लब अध्यक्ष डॉ.आनंद दीक्षित पिपरी बोरवन मामले में आज इम्तियाज के सामान्य तौर पर बयान हुए है। लगभग सभी के प्राम्भिक बयान हो चुके है । सभी के बयान के आधार पर जाँच प्रतिवेदन तैयार कर कलेक्टर साहब को दिया जाएगा । जल्द ही प्रतिवेदन के आधार पर जाँच उपरांत ही कुछ निष्कर्ष निकलेगा ।